DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तम्बाकू की पुड़िया छोड़ निकोटेक्स के आदी बने लोग

तम्बाकू की पुड़िया छोड़ निकोटेक्स के आदी बने लोग

तम्बाकू नियंत्रण के लिए जहां एक ओर अभियान चलाया जा रहा है।

पुड़िया खाए हुए व्यक्ति से जुर्माना वसूला जा रहा है। वही राष्टीय तम्बाकू नियत्रंण टीम की ओर से दी जा रही दवा के लोग आदी बनते जा रहे है। जिस से तम्बाकू नियंत्रंण के लिए दी जा रही टेबेलेट खपत हो रही है।इससे अन्दाजा लगाया जा सकता है।

जिलाअस्पताल के ओपीडी में एक कक्ष में राष्टीय तम्बाकू नियत्रंण का दफ्तर बना है। जहां पर तम्बाक छुड़ाने के लिए लोगों को बैठाल कर समझाया जाता है। इसके अलावा तम्बाकू की चाहत कम करने के लिए टीम की ओर से निकोटेक्स नाम की टेबलेट्स दी जाती है। इस तरह से लोगो को नशा छुड़ाने के लिए टीम में डॉ. सहायक आपरेटर हिमाशू, सोशल वर्कर तरुनुम, काउंसलर हेमलता शर्मा की तैनाती की गई। जिसमें में लोगो को आरोप है कि डॉक्टर शिवम मंगलवार को ही आते है। हालांकि जब हिन्दुस्तान की टीम मंगलवार को उनके दफ्तर पहुंची तो जानकारी हुई डॉक्टर शिवम सीएमओ की मीटिंग में शामिल होने गए है।

प्रत्येक मंगलवार को करीब एक हजार की वितरित होती है दवा

सोशलवर्कर तरुनुम से बात करने पर बताया कि प्रत्येक मंगलवार को दवा वितरित की जाती है। मंगल वार को सात मरीज आए। जिसमें 15डिब्बी दवा दी गई। एक डिब्बी की कीमत 70रुपया है। जिसमें 9 टेबलेटस होते है।

टेबलेट्स को लेकर हो जाती है नोकझोक

लोगो के मुताबिक कभी कभी तो निकोटेक्स टेबलेटस को लेकर कर्मचारियों से नोक झोक भी हो जाती है। जबकि टीम का कहना है उन्हे सिर्फ 12हफ्ते ही दवा देनी है। इसके बाद भी अगर कोई दवा चाहता है।तो फिर उसे बाहर से खरीदना पड़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Tobacco goose left people become addicted to nicotex tablets