Ten years of punishment for husband in dowry murder - दहेज हत्या में पति को दस साल सजा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दहेज हत्या में पति को दस साल सजा

अपर जिला व सत्र न्यायाधीश फास्ट ट्रैक कोर्ट अखिलेश कुमार पांडेय ने एक फैसले में दहेज की खातिर पत्नी की हत्या करने के मामले में आरोपित पति को जुर्म साबित होने पर दस साल की कैद की सजा सुनाई है। जज ने आरोपित पर दो हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। अभियोजन पक्ष के अनुसार थाना बघौली क्षेत्र के निवासी शिशुपाल की शादी थाना कासिमपुर क्षेत्र निवासी मंजू से घटना के दस माह पूर्व हुई थी। शादी में उसके पिता गयाप्रसाद ने अपनी हैसियत अनुसार दान-दहेज दिया। लेकिन शादी के बाद से ही उसकी बेटी के ससुराल वाले कम दहेज की खातिर मंजू को मारने-पीटने और प्रताड़ित करने लगे। दहेज में आल्टो कार की मांग करने लगे। मांग पूरी न होने पर सात मई 2013 को मंजू की हत्या कर दी। इस मामले की रिपोर्ट मृतका के पिता ने आरोपित के खिलाफ नामजद दर्ज कराई। सत्र न्यायाधीश श्री पांडेय ने अदालत के समक्ष पेश हुए सबूत के आधार पर और दोनों पक्षों की दलीलों को सुनकर आरोपित पर दहेज हत्या का जुर्म साबित पाया और उसे दस साल की कैद व दो हजार रुपए जुर्मानाअदा करने की सजा सुनाई। जुर्माना अदा न करने पर अतिरिक्त कैद की सजा सुनाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Ten years of punishment for husband in dowry murder