DA Image
28 मार्च, 2020|4:57|IST

अगली स्टोरी

नोट:संशोधित खबर

default image

हिन्दुस्तान एक्सक्लूसिव

रामगंगा नदी पर पक्का पुल बनाने के लिए नई कवायद

शासन के निर्देश पर सेतु निगम सरकार से बजट लेने के प्रयास में जुटा

हरदोई। अनूप शुक्ल

रामगंगा नदी पर अर्जुनपुर पुल निर्माण कार्य के लिए नाबार्ड से बजट जुटाने की कोशिशें कारगर साबित नहीं हुई। ऐसे में प्रदेश सरकार ने तय किया है कि इस प्रस्ताव को राज्य योजना के तहत भेजा जाए। ताकि प्रदेश सरकार अपने संसाधनों से बजट आवंटन कर पक्का पुल बनवा सके।

बीते कई वर्षों से पक्का पुल बनाने के लिए नाबार्ड से धनराशि जुटाने का प्रयास चल रहा था। कई बार स्थल के साथ ही लेआउट व लागत में भी बदलाव हुआ। इस कागजी फेरबदल के चक्कर में दिन, महीने और साल बीत गए पर पुल निर्माण चालू नहीं हो सका। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने भी जनसभा के दौरान जनवरी 2019 में निर्माण कार्य शुरू कराने की घोषणा की जो अधूरी रहने पर विपक्षी दलों ने इस मुद्दे पर सत्ता पक्ष को जमकर घेरा।

सेतु निगम के अनुसार अब पुल निर्माण के रास्ते में आ रही बजट संबंधी बाधा को दूर करने के लिए समाधान खोज किया गया है। विचार मंथन के बाद तय हुआ है कि इस पुल को राज्य योजना में शामिल किया जाए। इससे प्रदेश सरकार के स्तर से धन आवंटन किया जा सकेगा। यदि वित्त कमेटी ने स्वीकृति दी तो बजट का इंतजाम उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से सेतु निगम को मिल जाएगा। बजट आने के बाद करीब दो साल में पक्का पुल बनकर तैयार हो जाएगा।

कोट

स्टीमेट तैयार हो चुका है। करीब 1300 मीटर लंबा पुल बनना है। लगभग 94 करोड़ रुपये की धनराशि खर्च होगी। स्थानीय स्तर पर तैयारी पूरी है। शासन से बजट आते ही निर्माण कार्य शुरू करा देंगे। नाबार्ड से धनराशि न मिल पाने पर राज्य योजना में प्रस्ताव शामिल किया जाएगा। स्थानीय सांसद ने भी इसके लिए पहल की है।

- कमल कुमार श्रीवास्तव, डिप्टी परियोजना प्रबंधक सेतु निगम।