Imprisonment in non-willful murder - गैर इरादतन हत्या में मिली कैद DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गैर इरादतन हत्या में मिली कैद

अपर सत्र न्यायाधीश फास्ट ट्रैक कोर्ट अखिलेश कुमार पांडेय ने एक फैसले में गैरइरादतन हत्या के मामले में आरोपित को जुर्म साबित होने पर आठ साल की कैद की सजा सुनाई है। 11 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना अदा न करने पर अतिरिक्त कैद की सजा सुनाई है।

अभियोजन पक्ष के अनुसार थाना पिहानी क्षेत्र के इटारा निवासी विपिन ने 21 जुलाई 2013 को रात आठ बजे गांव के ही सुमन दीक्षित व उसकी पत्नी नीलम पर लाठी-डंडों से वार करके गम्भीर चोटें पहुंचाई। इस मामले की रिपोर्ट घायल नीलम ने आरोपित के खिलाफ दर्ज कराई। इलाज के दौरान सुमन की मौत हो गई। सत्र न्यायाधीश ने अदालत के समक्ष पेश हुए सबूत के आधार पर और दोनों पक्षों की दलीलों को सुनकर आरोपित पर गैरइरादतन हत्या का जुर्म साबित पाया। उसे सजा सुनाई। जज ने आरोपित को आठ साल की कैद व 11 हजार रुपए जुर्माना अदा करने की सजा सुनाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Imprisonment in non-willful murder