DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एससीएसटी एक्ट को लेकर फैलाया जा रहा भ्रम- पूर्णिमा

एससीएसटी एक्ट को लेकर फैलाया जा रहा भ्रम- पूर्णिमा

भाजपा की पूर्व सांसद व एससीएसटी आयोग उपाध्यक्ष पूर्णिमा वर्मा ने कहा एससीएसटी एक्ट को लेकर जो भ्रम फैलाया जा रहा है वह पूरी तरह गलत है। इस एक्ट का दुरुप्रयोग किसी भी भांति नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक कार्यकर्ता का दायित्व है कि व भाजपा की कल्याणकारी नीतियों को जन-जन तक पहुंचाएं। इसके साथ ही कार्यकर्ता इसको लेकर सजग रहें कि क्या वास्तव में लाभकारी योजनाओं का लाभ पात्र लोगों को मिल पा रहा है। उन्होंने केन्द्र व प्रदेश सरकार की उपलब्धियों का जमकर बखान किया।

पूर्व सासंद पूर्णिमा वर्मा को एससीएसटी आयोग उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी मिलने के बाद जिले में प्रथम आगमन पर उनका भाजपाइयों ने जोरदार ढंग से स्वागत किया। रसखान प्रेक्षागृह में हुए सम्मान समारोह में श्रीमती वर्मा ने कहा कि समय-समय पर जो उन्हें जिम्मेदारियां दी गई उनका भलीभांति व पूरी निष्ठा के साथ निर्वहन किया है। एससीएसटी एक्ट को लेकर कहा कि सरकार सर्व समाज के हितों के लिए है। उनकी रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। एक्ट के नाम पर किसी भी व्यक्ति के साथ कोई अन्याय नहीं होगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए जिलाध्यक्ष श्रीकृष्ण शास्त्री ने श्रीमती वर्मा ने स्वागत किया और उन्हें भाजपा की कर्मठ व ईमानदार छबि वाली पदाधिकारी होना कहा। संचालन भाजपा नेता सुभाष पांडेय व अभय शंकर शुक्ल ने किया। यहां प्रमुख रूप से पूर्व जिलाध्यक्ष राजीव रंजन मिश्र, प्रदेश महामंत्री अशोक वर्मा, सर्वेश जनसेवा, राम बहादुर सिंह आदि ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम में खुशी राम यादव, गांगेश पाठक, संदीप सिंह, आजाद भदौरिया, असद हुसैन, अलका गुप्ता, जगन्नाथ प्रसाद राजवंशी, विशुन दयाल शुक्ल, अर्जुन सिंह, डॉ. जीवन अर्कवंशी आदि रहे।

एससीएसटी एक्ट से ज्यादा खतरनाक है दहेज प्रथा

पूर्व सांसद व एससीएसटी आयोग उपाध्यक्ष पूर्णिमा वर्मा ने कहा कि एससीएसटी एक्ट को लेकर विपक्षी भ्रम फैलाए हुए हैं। जबकि वास्तव में एससीएसटी एक्ट से कहीं ज्यादा खतरनाक दहेज प्रथा एक्ट है। इसमें समाज का प्रत्येक वर्ग सफर करता है। खास बात यह है कि इस एक्ट में सभी को जेल जाना पड़ता है। वहीं सामान्य तौर पर एससीएसटी एक्ट काफी मुश्किलों में ही लगाया जाता है। एससीएसटी एक्ट विधेयक को लेकर कहा कि कोई नया विधेयक नहीं है। जैसा पुराना कानून था वही आज भी है। कोई खास बदलाव नहीं है।

हालांकि श्रीमती वर्मा से जब एससीएसटी एक्ट के नए विधेयक के बारे में डिटेल चाहा गया तो वे सही ढंग से नए एक्ट को बता नहीं पाई। यह बात दीगर रही कि उन्होंने भाजपा की नीतियों का बखान किया और एससीएसटी एक्ट के नए विधेयक को लेकर जमकर वकालत की और उसे पुराना ही एक्ट होना कहा। श्रीमती वर्मा निरीक्षण भवन में बुधवार की दोपहर मीडिया से रूबरू हुई। यहां प्रमुख रूप से भाजपा नेता सुभाष पांडेय, जगन्नाथ प्रसाद राजवंशी, संदीप सिंह व अर्जुन सिंह आदि रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Illusion being spread about the SCST Act