DA Image
17 जनवरी, 2021|5:41|IST

अगली स्टोरी

गंगा के रौद्ररूप से कटान को रोकेगा गंगा एक्सप्रेस वे

default image

हरदोई। हिन्दुस्तान संवाद

पतितपावनी मां गंगा कटरी क्षेत्र के किसानों के लिए वरदान है, लेकिन बाढ़ आने पर जब वह रौद्ररूप में आती हैं तो कटान के रूप में कहर भी बरपा जाती हैं। जलधारा मुड़ने के कारण बीते पांच दशक के दौरान एक हजार बीघा कृषि क्षेत्रफल से ज्यादा जमीन, सैकड़ों मकान, आधा दर्जन से ज्यादा गांव, सड़कें इसकी गोद में समा चुकी हैं। गंगा एक्सप्रेस वे कटान के कहर को रोकेगा।

फर्रुखाबाद जिले से हरदोई की सीमा में प्रवेश करने के बाद गंगा सवायजपुर व बिलग्राम तहसील के गांवों में 60 किमी से ज्यादा का सफर तय करते हुए उन्नाव जिले में पहुंचती हैं। हरदोई जिले की भौगोलिक स्थिति समतल होने के कारण बाढ़ का पानी 10 से 15 किमी के दायरे में कई-कई हफ्ते तक भरा रहता है। ऐसे में फसलें डूबकर बर्बाद हो जाती हैं। पानी उतरने के बाद बीमारियां भी फैलती हैं। ये समस्याएं गंगा एक्सप्रेस वे बनने से कम होंगी।

कुल 86 गांवों से होकर गुजरेगा एक्सप्रेस वे

तहसील बिलग्राम के गांव धोंधी, नबीपुर, बेरुआनिजामपुर, बेहटीखुर्द, आलापुर, बेहटाबुजुर्ग, पसनेर, सदरपुर, हीरापुर, वोचनपुर, पड़रा लखनपुर, शाहपुरवसदेव, इकसई, हसनपुर गोपाल, मुनव्वरपुर, इस्माइलपुर, ईश्वरपुर साईं, मेहंदीपुर, बंदीपुर बाहर टाउन, श्यामपुर, अकबरपुर, बरहुंआ, भड़वलसलेमपुर, बरौना, सराय सुल्तान, इब्राहिमपुर, उबरिया खुर्द, गंगारामपुर, मुसेपुर, भगवंतापुर, कल्यानपुर, सुल्तानपुर कोट, तेजीपुर, जरौली शेरपुर, वसहर, गुजरई, सवायजपुर तहसील के अटवा सीसाला, काईमऊ कुवरियापुर, अंटवा पंचसाला, हसनापुर सीसाला समेत जिले के करीब 86 गांवों की सीमाओं से होकर गंगा एक्सप्रेसवे गुजरेगा।

राजस्व कर्मियों पर नजर रखे हैं आला हाकिम

एक्सप्रेस वे बनाने के लिए 1201.73 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जाएगा। यूपीडा के अधिकारियों का कहना है कि पहले किसानों से सहमति पत्र लेकर जमीन क्रय की जाएगी। इसका ग्रामीण क्षेत्र में सर्किल रेट से चार गुना व शहरी इलाके में दो गुना मुआवजा मिलेगा। चिह्नित की गई जमीन का रकबा, हिस्सेदारों का ब्योरा आदि की सूची लेखपाल, कानूनगो समेत तहसील के अधिकारी बनाने में जुटे हैं। एसडीएम व तहसीलदारों को भी निगरानी में लगाया गया है ताकि किसी प्रकार की अनियमितता न होने पाए।

जिलाधिकारी अविनाश कुमार का कहना है कि शासन के निर्देशानुसार भूमि अधिग्रहण संबंधी कागजी कार्रवाई तेजी से पूर्ण कराई जा रही है। राजस्व महकमे को नियमानुसार औपचारिकताएं पूरी करने की जिम्मेदारी दी गई है। किसानों को वाजिब मुआवजा मिलेगा। हिदायत दी गई है कि किसी अधिकारी या कर्मचारी ने कोई गड़बड़ी की तो उसे बख्शा नहीं जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ganga Express Way to stop Katan from raging Ganges