DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  हरदोई  ›  सरकारी संस्थाओं पर किसानों का 46 करोड़ है बकाया
हरदोई

सरकारी संस्थाओं पर किसानों का 46 करोड़ है बकाया

हिन्दुस्तान टीम,हरदोईPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 05:50 AM
सरकारी संस्थाओं पर किसानों का 46 करोड़ है बकाया

हरदोई। कार्यालय संवाददाता

गेहूं क्रय केंद्रों पर गेहूं बेंचने वाले तमाम किसानों को अब भुगतान पाने के लिए भी चक्कर लगाना पड़ रहा है। कभी बैंक तो कभी क्रय केंद्रों पर पहुंचकर पूछ रहे हैं कि पेमेंट आया कि नहीं ? कब तक खाते में रुपया पहुंचेगा? क्रय केंद्र प्रभारी थोड़ा इन्तजार करने की घुट्टी पिलाकर किसानों को वापस कर रहे हैं। ऐसे में धान की बेड़ तैयार करने, पौध रोपाई आदि का कार्य प्रभावित हो रहा है। तीन दिन के अंदर भुगतान कराने के दावे धरातल पर हवाहवाई साबित हो रहे हैं। अभी भी किसानों का 4613 लाख रुपया बकाया पड़ा है।

खाद्य एवं विपणन विभाग के आंकड़ों के अनुसार जिले भर में 122 गेहूं क्रय केंद्र खोले गए हैं। सात एजेंसियां गेहूं की खरीद कर रही हैं। इनमें से केवल भारतीय खाद्य निगम 666.95 लाख के सापेक्ष किसानों को शत प्रतिशत खरीदे गए गेहूं का भुगतान कर चुका है। शेष छह संस्थाएं पूरे किसानों का भुगतान नहीं दे सकी हैं। खाद्य विभाग पर 439 लाख रुपये, पीसीएफ पर 2626 लाख रुपये, एसएफसी पर 20.22 लाख रुपये, यूपीपीसीयू पर 933 लाख, यूपीएसएस पर 359 लाख रुपये, मंडी परिषद पर 234 लाख रुपया किसानों का भुगतान बकाया चल रहा है।

आरएमओ अनुराग पाण्डेय का किसानों को खरीदे गए गेहूं का भुगतान कराने के लिए तेजी से प्रयास कर रहे हैं। संबंधित संस्थाओं को पत्र लिखा गया है।

15 जून तक के आंकड़ों की जुबानी भुगतान की कहानी

क्रय एजेंसी कितना भुगतान देना है कितना भुगतान दिया

खाद्य विभाग 817.76 लाख 7737.17 लाख

पीसीएफ 13341.68लाख 10715.00 लाख

एसएफसी 1709.84 लाख 1689.62 लाख

यूपीपीसीयू 6399.77 लाख 5466.01 लाख

यूपीएसएस 1458.52 लाख 1099.36 लाख

मण्डी परिषद 1686.05 1451.35 लाख

इनकी भी सुनिए

चौंसार निवासी किसान विकास मिश्रा का कहना है कि इस समय किसानों को खेती के लिए खाद, बीज, कृषि यंत्र आदि की आवश्यकता है। इसलिए अधिकारियों को इस मामले में फौरन दखल देना चाहिए। जो किसान क्रय केंद्र पर पहुंच रहे हैं उनका गेहूं तत्काल खरीदा जाए। जिनका बकाया है उनका भुगतान खाते में तुरंत पहुंचाया जाए, जिससे वे अगली फसल की बुवाई कर सकें। गोपनीय तरीके से उच्चाधिकारी केंद्र पहुंचे तो किसानों की दिक्कतों का सच उनके सामने आ आएगा।

संबंधित खबरें