DA Image
26 अक्तूबर, 2020|10:52|IST

अगली स्टोरी

बीएसएनएल को नष्ट करना चाहती है केंद्र सरकार

बीएसएनएल को नष्ट करना चाहती है केंद्र सरकार

भारत संचार निगम लिमिटेड के 20वें स्थापना दिवस को राष्ट्रव्यापी काला दिवस के रूप में मनाया गया। सिविल लाइंस स्थित कार्यालय गेट के बाहर कर्मचारियों ने नारेबाजी की। सरकार को जमकर कोसा। आरोप लगाए कि पूंजीपतियों के इशारे पर काम कर रही केंद्र सरकार जनता को गुलाम बनाने पर उतारू है। आने वाले चुनाव में ऐसी सरकार का सफाया होगा।

आल यूनियंस एंड एसोसिएशन के संयुक्त राष्ट्रीय आह्वान पर हरदोई बीएसएनएल के कर्मचारी व अधिकारी इकट्ठा हुए। काला दिवस मनाते हुए अपने हक व हितों की आवाज बुलन्द की। जिला सचिव शिवमंगल दीक्षित ने कहा कि केंद्र सरकार की नीतियां बीएसएनएल विरोधी हैं। केंद्र सरकार द्वारा 4 जी न देना व बीएसएनएल का रिवाइवल न करना निंदनीय है। कामरेट वाईपी गुप्ता ने कहा कि केंद्र सरकार जानबूझकर निजी कंपनी को लाभ देने के लिए बीएसएनएल को नष्ट करने पर तुली है। इसीलिए बीएसएनएल 80 हजार कर्मचारियों को वीआरएस देने के बावजूद अपने कर्मचारियों को समय से वेतन तक नहीं दे पा रहा है।

कर्मचारी नेताओं ने कहा कि केंद्र सरकार तत्काल बीएसएनल को 4 जी की सुविधा दे। कामकाज में आ रहे अवरोधों को दूर करे। रिवाइवल प्लान को जल्दी जागू करे। इस मौके पर पृहलाद सिंह, एसके सिंह, ओपी गुप्ता, शांति देवी, श्रीपाल, बालकराम, जयराम वर्मा, राजेश सक्सेना, दीनालाल, इच्छाराम, जीतराम आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Central government wants to destroy BSNL