DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  हरदोई  ›  हरदोई के 90 ग्राम पंचायत शौचालय विहिन

हरदोईहरदोई के 90 ग्राम पंचायत शौचालय विहिन

हिन्दुस्तान टीम,हरदोईPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:51 AM
हरदोई के 90 ग्राम पंचायत शौचालय विहिन

हरदोई। सुशान्त सिंह

स्वच्छ भारत मिशन अभियान के तहत ग्रामीण इलाकों में लाखों रुपए की लागत से बनाए गए अधिकांश सार्वजनिक शौचालय शोपीस साबित हो रहे हैं। जिले में 90 ग्राम पंचायते ऐसी भी हैं जहां सार्वजनिक शौचालय का अता पता ही नहीं। कुछ ग्राम पंचायतों में सार्वजनिक शौचालय की देखरेख करने वाले केयर-टेकर नहीं है तो कहीं केयर-टेकर को जिम्मेदारी देने के बावजूद अब तक एक रुपए तक की आमदनी नहीं हो सकी है। लोग अभी भी खुले में शौच जाने के लिए मजबूर हैं। जिम्मेदारों की उदासीनता से यह व्यवस्था पटरी पर नहीं आ पा रही है।

शासन की मंशा थी कि ग्राम पंचायतों में सार्वजनिक शौचालय बनाकर उसे रोजगार से जोड़ा जाए। इसके लिए ऐसे इलाकों में शौचालय बनाने के निर्देश दिए गए थे जिस गांव या मोहल्ले में शत-प्रतिशत लोगों को व्यक्तिगत शौचालय न मिल पाए हों। उसमें से भी अनुसूचित जाति बाहुल्य वाले मोहल्लों व वार्डों को प्राथमिकता दी जानी थी। बाजारों, बस या रेलवे स्टेशन अथवा तिराहों चौराहों पर जहां भीड़ एकत्र होती थी वहां भी आवश्यकतानुसार सार्वजनिक शौचालय बनाए जा सकते थे। पर बताते हैं कि नियमों को दरकिनार कर बनाए गए अधिकांश शौचालय महत्वहीन हो चुके हैं।

विभागीय आंकड़ों के अनुसार 1306 ग्राम पंचायतों के निर्धारित लक्ष्य के मुकाबले 1216 ग्राम पंचायतों में ही सार्वजनिक शौचालय बन पाए हैं। 90 ग्राम पंचायतों में सार्वजनिक शौचालय ही नहीं है। इसमें से भी 900 सार्वजनिक शौचालयों में केयर-टेकर का चयन कर उन्हें शौचालय संचालन के लिए दिए गए हैं। इसके अतिरिक्त शेष शौचायल अधूरे हैं अथवा देखरेख के अभाव में उनका संचालन नहीं हो पा रहा है।

डीपीआरओ गिरीश कुमार ने कहा कि जल्द ही सभी ग्राम पंचायतों में सार्वजनिक शौचालय बनकर तैयार हो जाएंगे। केयर-टेकर के माध्यम से इनका संचालन भी करवाया जाएगा। अगर कहीं कोई दिक्कत आ रही है तो उसकी जानकारी कर समस्या का निस्तारण करवा दिया जाएगा। लोगों को जागरूक भी किया जाएगा ताकि वे खुले में शौच के लिए न जाएं। प्रधान व सचिवों को भी जिम्मेदारी सौंपी जाएगी।

संबंधित खबरें