DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

--तो लूटपाट के विरोध में दरोगा की हत्या के समय हत्यारों ने नहीं किया मोबाइल यूज।़

24 मई की दोपहर को दिन दहाड़े गांव नंगौला के निकट लूटपाट के विरोध में दिल्ली पुलिस के दरोगा की गोली मारकर हत्या करने के समय शातिर हत्यारों ने किसी मोबाइल नंबर को यूज नहीं किया। हत्याकांड की सुरागकशी में लग रही पुलिस की टीमें पांच दिन बाद भी सर्विलांस से हत्यारों के नजदीक तक वनहीं पहुंच पाई है। हालांकि बीटीएस टीम दोबारा से मोबाइल कॉल का डाटा खंगालने में जुट गई है।

दिल्ली पुलिस के दरोगा सुधीर त्यागी हत्याकांड में पाच दिन बीतने के बाद भी कोई महत्वपूर्ण सुराग तक पुलिस की टीम नहीं पहुंच पाई है। हालांकि हत्यारों ने दस मिनट में घटना को अंजाम देने के बाद पुलिस के लिए यह चेलेंज दे दिया है कि आधुनिक दौर में पुलिस को उनको पकड़ने में नाकामयाब साबित हो रही है। 24 मई को दिन दहाड़े लूट के विरोध में दिल्ली पुलिस के दरोगा की हत्या को खालने के लिए कप्तान संकल्प शर्मा ने जिले के तेज तर्रार इंचार्जों को लगा दिया है। जिसमें पिलखुवा कोतवाली, हापुड़ देहात थाना, थाना हाफिजपुर इंचार्ज तथा कोतवाली नगर इंचार्ज के साथ साथ सीओ सिटी भी लगे हुए है। पांच दिन में 20 से अधिक संदिग्धों को पकड़ने के बाद भी पुलिस अभी तक किसी की जुबान नहीं खोल पाई है। जिसमें सबसे बड़ी दिक्कत यह आ रही है कि हत्यारों ने घटनाक्रम को दस मिनट में अंजाम दिया और कच्चे रास्ते से फरार हो गए। हत्यारों ने इस दौरान मोबाइल का इस्तेमाल तक नहीं किया है। क्योंकि जिले की बीटीएस टीम पांच दिन में कोई मोबाइल नेटवर्क ऐसा नहीं तला५ा पाई है कि जो हत्या के समय वहां पर यूज किया गया हो। इसके अलावा घटनाक्रम से जुड़ा कोई मोबाइल नंबर पुलिस टीम के हाथ नहीं लगा है। जबकि दो दिन पहले पुलिस ने दो संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की है। जिनपर पुलिस की सुरागकशी पूरी तरह जम गई है। क्योंकि पकड़े गए लोगों को द्वारा बताए जा रहे सवालों के जवाब तथा परिवार वालों द्वारा बताई जा रही बातों में काफी अंतर आ रहा है। बहरहाल पुलिस दरोगा के हत्यारों की सुरागकशी में लगी हुई है।

हुलिया तथा रास्ते की लोकेशन खोलेगी राज--

मोबाइल नेटवर्क पर काम कर रही पुलिस की एक टीम जहां दूसरे चरण में लोकेशन लेने में जुट गई है वहीं जनपद के तेज तर्रार थाना प्रभारी मौके के गवाह पीड़िता नीरज त्यागी तथा पारुल त्यागी द्वारा बताए जा रहे हुलियों पर हत्यारों को तलाश रहे हैं। पुलिस की टीम हुलिया के आधार पर क्षेत्र के युवा क्रिमनलों की सूची तैयार कर रहे हैं तथा उनकी धरपकड़ कर रहे हैं। इसके अलावा नंगौला से जा रहे कच्चे रास्ते से मोदीनगर रोड पर पहुंचने के बाद बदमाशों की बाइक के टर्न को भी पुलिस अभी तक नहीं खोज पाई है। जबकि पुलिस अगर बदमाशों की फरार होने की लोकेशन तक पहुंचे तो उनके क्षेत्र तक पहुंच सकती है। कुल मिलाकर पुलिस की टीम हुलिया तथा रास्ते की लोकेशन पर भी जुट गई है।

दिल्ली पुलिस ने मांगी पोस्टमार्टम रिपोर्ट--

दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस के दरोगा की हत्या होने के बाद आज छह दिन हो जाएंगे। वहीं दिल्ली पुलिस ने भी सुधीर त्यागी से संबंधित पोस्टमार्टम रिपोर्ट को मांगा है। जिसको लेकर परिजन पोस्टमार्टम रिपोर्ट ले कर दिल्ली पुलिस को भेजने की तैयारी कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: So the killers did not use mobile usages during the killing of Daraoga in protest against looting