DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › हापुड़ › पंजाबी समाज ने विभाषन विभीषिका स्मृति दिवस मनाने के फैसले किया स्वागत
हापुड़

पंजाबी समाज ने विभाषन विभीषिका स्मृति दिवस मनाने के फैसले किया स्वागत

हिन्दुस्तान टीम,हापुड़Published By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 04:11 AM
पंजाबी समाज ने विभाषन विभीषिका स्मृति दिवस मनाने के फैसले किया स्वागत

भारत पाकिस्तान के बंटवारे के दौरान 14 अगस्त को पंजाबी समाज के करीब दस लाख लोग शहीद हो गए थे। इस दिन को भारत सरकार ने विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस मनाने का निर्णय लिया हैं। प्रधानमंत्री के इस निर्णय का पंजाबी समाज के लोगों ने स्वागत कर आभार जताया हैं।

बता दें, कि भारत पाकिस्तान के बंटवारे के समय 14 अगस्त को पंजाबी समाज के करीब दस लाख लोग शहीद हो गए थे। पंजाबी समाज पौधाकरण व प्रदेश संयोजक हापुड़ के कोठीगेट निवासी स्वर्गीय राम प्रकाश सेठी ने शहीदों की याद में 14 अगस्त को मोमबत्ती और दीपक जलाकर श्रद्धाजंलि अर्पित करनी शुरू की। साथ ही सरकार से इस दिवस को मनाने की भी मांग की। दो वर्ष पहले राम प्रकाश सेठी के निधन के बाद उनके सुपुत्र व पंजाबी समाज के प्रदेश संयोजक प्रवीन सेठी ने इस मुहिम को आगे बढ़ाया।

अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया हैं। इसपर पंजाबी समाज के प्रदेश संयोजक प्रवीन सेठी ने कहा कि भारत पाकिस्तान के विभाजन के समय दस लाख से ज्यादा पंजाबी समाज के लोग शहीद हो गए थे।

पंजाबी समाज ने अपनी एकता का परिचय देकर 14 अगस्त को पूरे भारत के अंदर मोमबत्ती और दीपक जलाकर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की थी। यह शुरुआत पंजाबी समाज के पौधाकरण स्वर्गीय श्री रामप्रकाश सेठी ने की थी। उनके अथक प्रयासों से 14 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में मनाने का फैसला लिया हैं। प्रधानमंत्री के फैसले का पंजाबी समाज स्वागत करती हैं। पंजाबी समाज में इस फैसले से खुशी का माहौल हैं।

संबंधित खबरें