DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर लाखों ने किया गंगा स्नान

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर लाखों ने किया गंगा स्नान

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर्व पर लाखों श्रद्धालु गंगा स्नान करने के लिए ब्रजघाट पर पहुंचे और तीन लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने आस्था के साथ गंगा स्नान किया तापमान लगातार ऊंचाई की ओर बढ़ने पर श्रद्धालुओं ने गर्मी से बचने के लिए पर्यटक के रूप में गंगा में नौका विहार कर लुफ्त भी उठाया। श्रद्धालुओं ने गरीब बेसहाराओं को भोजन कराया दान दिया। तीर्थनगरी के प्रसिद्ध मंदिरों में देवी देवताओं के दर्शन कर सुख शान्ति की कामना की गई। पुलिस ने मुस्तैदी के चलते हाईवे पर जाम नहीं लगने दिया। ज्येष्ठ मास पूर्णिमा की पूर्व संध्या से ही श्रद्धालुओं का ब्रजघाट पर आना शुरू हो गया था। दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान से आने वाले श्रद्धलुओं ने ब्रजघाट की धर्म५खाला व आश्रम में पड़ाव डालकर प्रात: चार बजे से ही स्नान घाट पर पहुंचकर ब्रह्म मुहुर्त में गंगा स्नान करना शुरू किया तो दोपहर बाद तक स्नान करने का सिलसिला चलता रहा। श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान करने के बाद गंगा मां की पूजा अर्चना कर गरीब और बेसहराओं को भोजन कराया गऊ ग्रास कराकर दान भी दिया। पर्यटकों ने किया नौका विहार--- गर्मी के बढ़ने तथा लगातार तापमान बढ़कर 45 डिग्री पर पहुंच गया तो गर्मी में दिल्ली के पर्यटकों ने ब्रजघाट में गंगा स्नान करने के साथ गंगा में नौका विहार किया और मनोहारी दृश्य का लुफ्त भी उठाया। दिल्ली शकरपुर निवासी वीपी सिंह ने बताया कि गंगा में नौका विहार करने पर बहुत अच्छा अहसास हुआ। हरियाणा पलवल निवासी एसपी सिंह ने बताया की गंगा के शीतल जल में स्नान करने पर गर्मी का अहसास नही हुआ वही नौका में सैर करने पर भी अच्छा लगा है।तीन लाख से ज्यादा आये श्रद्धालु--- तीर्थपुरोहित राजुकमार शर्मा, देवेन्द्र राय गौतम, पीके शर्मा, कपिल शर्मा, रज्जन शर्मा ने बताया कि कई प्रांतों सहित आसपास जनपदों के तीन लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने ज्येष्ठ पूर्णिमा पर गंगा स्नान किया हालांकि अधिमास लौद महीना, होने पर श्रद्धालुओं की संख्या अपेक्षा से कम रही है। जून महीना में पड़ने वाली पूर्णिमा पर श्रद्धालुओं की संख्या ज्यादा रहने की उम्मीद है।तीन साल आई अधिमास पूर्णिमा---ज्येष्ठ अधिमास पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है अधिमास पूर्णिमा तीन साल के बाद आती है। ज्योतिषाचार्या प्रेरणा का कहना है। कि ज्येष्ठ अधिमास पूर्णिमा तीन साल के बाद आती है। इस दिन भगवान विष्णु की केसर युक्त दूध से दक्षिणावर्ती शंख की ओर से अभिषेक करने पर रोजगार के रास्ते प्रशस्त होते हैं। तुलसी के सामने गाय के घी का दीपक जलाना तथा गंगा स्नान करने के साथ विधि विधान से पूजा करना लाभकारी होता है धन प्राप्ती के रास्ते खुल जाते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Millions did the Ganga bath at senior Purnima