Wednesday, January 26, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश हापुड़क्षय रोग व एड्स से बचाव पर की कार्यशाला में दी जानकारी

क्षय रोग व एड्स से बचाव पर की कार्यशाला में दी जानकारी

हिन्दुस्तान टीम,हापुड़Newswrap
Tue, 30 Nov 2021 07:15 PM
क्षय रोग व एड्स से बचाव पर की कार्यशाला में दी जानकारी

क्षय रोग विभाग ने विश्व एड्स दिवस के मौके पर एड्स और क्षय रोग के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लिए एसएसवी पीजी कालेज सभागार में एक संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन किया।

रेड रिबन कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित इस कार्यशाला में जिला क्षय रोग अधिकारी डा. राजेश सिंह ने बताया कि एड्स यानि एचआईवी संक्रमण एक गंभीर बीमारी है और बचाव के जरिए इस पर नियंत्रण पाया जा सकता है। बचाव के लिए आमजन में इस रोग के प्रति जागरूकता जरूरी है। एचआईवी संक्रमण असुरक्षित शारीरिक संबंध और ब्लड ट्रांसफ्यूजन के जरिए फैलता है। इसके लिए जरूरी है कि एक प्रयोग की गई सुईं किसी दूसरे को न लगाई जाए और असुरक्षित शारीरिक संबंध बनाने से बचें।

जिला पीपीएम समन्वयक सुशील चौधरी ने कालेज के छात्र-छात्राओं को क्षय रोग(टीबी) के लक्षणों और उपचार के बारे में जानकारी दी। डॉ. राजेश सिंह ने कहा कि एड्स से बचाव आसान है, बस थोड़ा सा सावधान रहने की जरूरत है। इंजेक्शन देने या ब्लड सैंपल आदि लेने के लिए डिस्पोजेबल सुई का ही इस्तेमाल किया जाए, यानि एक सुईं को केवल एक ही व्यक्ति इस्तेमाल करें। शेव बनाते समय किसी दूसरे के द्वारा इस्तेमाल किए गए ब्लेड का इस्तेमाल कतई न करें।

एचआइवी संक्रमण से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता खत्म हो जाती है। यह दुनिया की प्रमुख संक्रमिक और जानलेवा बीमारी है। एंटी रेट्रो वायरल थेरेपी(एआरटी) एचआइवी को फैलने से रोकती है। संक्रमण कम करने का जरिए केवल रोकथाम ही है। मां से बच्चे में एचआइवी के संक्रमण को रोका जा सकता है। एचआइवी प्रभावित लोगों में सामान्य लोगों की अपेक्षा टीबी होने का खतरा अधिक होता है। कार्यशाला में कालेज के प्रधानाचार्य डा. सतीश कुमार, भूगोल की विभागाध्यक्ष डा. स्वागता वाशु, डा. निहू अग्रवाल, डा. इंदु यादव, डा. शालू शर्मा, डा. संगीता अग्रवाल व स्वयंसेवी संस्था यूपीएनटी,अहाना व नवभारत विकास संस्थान से प्रोजेक्ट मैनेजर संदीप कुमार व मंजू शर्मा आदि ने सक्रिय भागीदारी निभाई।

epaper

संबंधित खबरें