ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश हापुड़किसानों को हटाने के बाद भी बड़ी तादाद में पुलिस तैनात

किसानों को हटाने के बाद भी बड़ी तादाद में पुलिस तैनात

धरने पर बैठे किसानों को हटाने के बाद मौके पर दूसरे दिन भी बड़ी तादाद में पुलिस तैनात रही। धरने के कारण ठप पड़ा गंगा एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य भी...

किसानों को हटाने के बाद भी बड़ी तादाद में पुलिस तैनात
हिन्दुस्तान टीम,हापुड़Thu, 22 Feb 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

धरने पर बैठे किसानों को हटाने के बाद मौके पर दूसरे दिन भी बड़ी तादाद में पुलिस तैनात रही। धरने के कारण ठप पड़ा गंगा एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य भी दोबारा से चालू कर दिया गया है।

गढ़ तहसील क्षेत्र के गांव सिंभावली फरीदपुर के कई किसान आठ माह से निर्माणाधीन गंगा एक्सप्रेस वे पर धरना देते आ रहे थे, जिसके कारण निर्माण कार्य भी ठप चल रहा था। डीएम प्रेरणा शर्मा और एसपी अभिषेक वर्मा मंगलवार को बड़ी संख्या में पुलिस को साथ लेकर मौके पर पहुंचे थे, जिन्होंने सख्त रुख अपनाते हुए धरने पर बैठे किसानों को वहां से हटवा दिया था। इतना ही नहीं बल्कि पुलिस एवं प्रशासन द्वारा संबंधित भूमि में खड़ी फसलों को भी ट्रैक्टर से जुतवाते हुए खुर्दबुर्द करा दिया गया था। किसानों से खाली कराए गए धरना स्थल पर अहतियात के मद्देनजर बुधवार को दूसरे दिन भी बड़ी तादाद में पुलिस तैनात रही। वहीं निर्माणदायी संस्था यूपीडा ने किसानों के धरने के कारण आठ माह से बंद पड़े निर्माण कार्य को भी अब दोबारा से प्रारंभ करा दिया है।

-जिला प्रशासन के अडिय़ल रवैये को देखते हुए किसानों के हित में उतरी भाकियू ने अब बड़े आंदोलन की चेतावनी दे डाली

भाकियू टिकैत के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कुशलपाल आर्य किसानों से खाली कराए गए धरना स्थल पर पहुंचे, जहां की स्थिति का आंकलन करते हुए उन्होंने राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के जिलाध्यक्ष विरेश चौधरी समेत संबंधित किसानों से भेंट की। इस दौरान काफी देर तक चली वार्ता के उपरांत भाकियू नेता ने किसानों की मांग को पूरी तरह वाजिब बताते हुए जिला प्रशासन पर दमनात्क कार्रवाई करने का आरोप लगाया। कुशलपाल आर्य ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि किसानों से किसी भी दशा में नाइंसाफी नहीं होने दी जाएगी, परंतु अगर जिला प्रशासन अपने अडिय़ल रवैये को छोड़ते हुए संबंधित किसानों को उनकी कृषि भूमि का उचित ढंग में मुआवजा दिलाने की कवायद नहीं करेगा। तो फिर भाकियू द्वारा किसानों समेत राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के साथ कंधा से कंधा मिलाकर बड़ा आंदोलन करते हुए गंगा एक्सप्रेस वे के निर्माण कार्य को फिर से बंद करा दिया जाएगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें