DA Image
29 नवंबर, 2020|4:37|IST

अगली स्टोरी

दिल्ली से आई ईडी की टीम का हापुड़ के मीट कारोबारी की फैक्ट्री पर छापा

दिल्ली से आई ईडी की टीम का हापुड़ के मीट कारोबारी की फैक्ट्री पर छापा

हापुड़। वरिष्ठ संवाददाता

सिंभावली शुगर मिल के बाद ईडी की टीम ने बुधवार सुबह एक मीट कारोबारी के घर तथा फैक्ट्री पर छापा मारकर सात घंटों तक छानबीन की। आय से अधिक संपत्ति को लेकर ईडी की टीम ने यह कार्रवाई की है। सात घंटे तक चली छानबीन के बाद आय-व्यय का लेखा-जोखा अपने साथ दिल्ली ले गई है।

बुधवार सुबह करीब 10 बजे दिल्ली से प्रवृतन निदेशालय (ईडी) की 15 सदस्य टीम कई वाहनों से हापुड़ नगर कोतवाली पहुंची, जहां से कोतवाली पुलिस बल को लेकर रामपुर रोड स्थित मीट व्यापारी इकराम कुरैशी के घर और फैक्ट्री पर छापा मारा। घर के दोनों दरवाजों के बाहर पुलिस लगाई गई। इसके बाद एक टीम घर तथा दूसरी टीम पुलिस को साथ लेकर फैक्ट्री पहुंच गई। घर तथा फैक्ट्री को नजरबंद कर दिया गया। ताकि कोई भी घर से बाहर और अंदर न आ जा सके। सूत्रों का कहना है कि छापे के दौरान मीट व्यापारी घर पर नहीं था। उसका एक अस्पताल में उपचार चल रहा है। ईडी की टीम में शामिल अधिकारियों और कर्मचारियों ने फैक्ट्री और आवास से महत्वपूर्ण दस्तावेजों को अपने कब्जे में लेकर करीब 7 घंटे तक छानबीन करती रही। शाम को साढ़े 5 बजे प्रवृतन निदेशालय की टीम दिल्ली के लिए वापस लौट गई है। शहर में आय से अधिक संपत्ति के मामले में ईडी के छापे की चर्चा रही। वहीं इस कार्रवाई से अन्य मीट कारोबारियों में हड़कंप मचा हुआ है।

तो कौन हैं ईडी के निशाने पर

प्रवृत निदेशालय की टीम बुधावर को हापुड़ नगर में पहुंची तो शहरवासियों में हड़कंप मच गया। क्योंकि मीट व्यापारी का शहर के बड़े उद्योगपतियों में नाम है। जिसको लेकर कुछ ही क्षणों में सूचना आग की तरह जिले में फैल गई। ईडी की सूचना के बाद जिले का मीडिया फैक्ट्री के बाहर एकत्र हो गया। बताया गया है कि कारोबारी शहर के बड़े उद्योगपतियों में है। आय-व्यय को लेकर देश की राजधानी से प्रदेश की राजधानी तक मामला पुहंचने पर प्रवृतन निदेशालय ने संज्ञान ले लिया है।

सिंभावली शुगर मिल पर था पहला छापा

बता दे कि दो साल पहले सिंभावली शुगर मिल पर ईडी की टीम ने छापा मारा था। जिसमें ईडी की टीम ने कुछ संपत्ति को अपने कब्जे में कर लिया था। बता दे कि सिंभावली शुगदर मिल पर कई सौ करोड़ रुपये का ऋण लेने का मामला था। जिसको लेकर किसानों के नाम पर ऋण लिया गया था। वहीं ओरियंटल बैंक ने सीबीआई की शाखा पर रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

व्यापारियों में मचा गया हडकंप

शहर में मीट फैक्ट्री को लेकर मामला काफी हॉट रहा था। हाईकोर्ट से सुप्रीम कोर्ट तक मामला पहुंचने के बाद मीट कारोबारी को राहत मिली थी। जबकि डेढ़ साल से फैक्ट्री बंद होने के कारण अरबों रुपये का टर्न ओवर चौपट हो गया था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:ED team from Delhi raids Hapur 39 s meat trader 39 s factory