ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश हापुड़दिल्ली कूच की जिद पर अड़े भाकियू कार्यकर्ताओं ने दी गिरफ्तारी

दिल्ली कूच की जिद पर अड़े भाकियू कार्यकर्ताओं ने दी गिरफ्तारी

दिल्ली को जा रहे भाकियू कार्यकर्ता पुलिस द्वारा रोके जाने से नाराज होकर नेशनल हाईवे पर धरना देकर बैठ गए। जिनके द्वारा गिरफ्तारी दिए जाने पर पुलिस...

दिल्ली कूच की जिद पर अड़े भाकियू कार्यकर्ताओं ने दी गिरफ्तारी
हिन्दुस्तान टीम,हापुड़Thu, 22 Feb 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली को जा रहे भाकियू कार्यकर्ता पुलिस द्वारा रोके जाने से नाराज होकर नेशनल हाईवे पर धरना देकर बैठ गए। जिनके द्वारा गिरफ्तारी दिए जाने पर पुलिस उन्हें कोतवाली ले आई और फिर किसी भी कार्रवाई के बिना उन्हें जनपद का बॉर्डर पार करते हुए वापस अमरोहा की सीमा में छोड़ दिया गया।

भाकियू असली से जुड़े मुरादाबाद, अमरोहा, संभल, बदायूं समेत कई जनपदों के कार्यकर्ता बुधवार की शाम को राष्ट्रीय अध्यक्ष हरपाल सिंह और राष्ट्रीय प्रवक्ता हरीश हूण के नेतृत्व में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर देश की राजधानी दिल्ली को कूच कर रहे थे। जिनके वाहनों को पुलिस द्वारा गांव अठसैनी के सामने रोक लिया गया, जिससे नाराज होकर राष्ट्रीय अध्यक्ष समेत सभी कार्यकर्ता अपने वाहनों से उतरकर नारेबाजी करते हुए दिल्ली लखनऊ नेशनल हाईवे पर धरना देकर बैठ गए। कुछ ही देर के भीतर इंस्पेक्टर विनोद पांडेय, सुरेश कुमार बहादुरगढ़, एसओ धर्मेंद्र सिंह सिंभावली समेत सर्किल के तीनों थानों की पुलिस भी मौके पर पहुंचकर भाकियू कार्यकर्ताओं को समझाकर धरने से उठवाने का प्रयास करने लगी। परंतु भाकियू कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए दिल्ली कूच करने की अपनी जिद पर अड़े रहे। राष्ट्रीय अध्यक्ष हरपाल सिंह और राष्ट्रीय प्रवक्ता हरीश हूण ने कहा कि तेरह माह तक गाजीपुर बॉर्डर पर चले आंदोलन के दौरान तीन कानून वापस लेते हुए मोदी सरकार ने किसान हित में एमएसपी की गारंटी का कानून लाने के साथ ही कर्जमाफी करने का वादा किया था, परंतु अभी तक उन पर कोई अमल संभव नहीं हो पाया है। जिसके विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर वे दिल्ली जा रहे हैं, परंतु पुलिस द्वारा उन्हें जबरन रोकते हुए वापस लौटने का दबाव बनाया जा रहा है, जिसके विरोध में उन्हें नेशनल हाईवे पर धरना देकर बैठने को मजबूर होना पड़ा है। इसके उपरांत एएसपी आरके अग्रवाल भी मौके पर आ गए, जिन्होंने सीओ आशुतोष शिवम और नायब तहसीलदार वेदप्रकाश सोनी के साथ मिलकर भाकियू नेताओं से वार्ता कर उन्हें हाईवे से उठाने का भरसक प्रयास किया। परंतु भाकियू कार्यकर्ताओं ने दिल्ली कूच से रोके जाने पर जेल जाने की बात कहते हुए अपनी गिरफ्तारी दे दी। धरने में युवा प्रदेश अध्यक्ष ऋषभ चौधरी, मंडल अध्यक्ष डूंगर सिंह मुरादाबाद, प्रह्लाद सिंह पूनिया मेरठ, जिलाध्यक्ष देवेंद्र सिंह बाना हापुड़, राजपाल यादव संभल, केपीएस राठौर बदायूं, प्रांतीय उपाध्यक्ष समरपाल सिंह, राष्ट्रीय प्रमुख सचिव ऋषिपाल यादव, प्रदेश प्रवक्ता दीपक शर्मा, युवा जिलाध्यक्ष आकाश सिंह, शिवसिंह, कुलदीप सिंह, हेमसिंह, सुमित चौधरी, भूरेसिंह, सुलेमान खान, वारिस अली, हरीश सिंह समेत काफी कार्यकर्ता शामिल रहे।

--गिरफ्तारी देने वाले भाकियू कार्यकर्ताओं को जनपद बॉर्डर को पार करते हुए वापस अमरोहा की सीमा में छोड़ दिया गया

दिल्ली जाने से रोके जाने पर गिरफ्तारी देने वाले भाकियू कार्यकर्ताओं को पुलिस द्वारा वाहन से कोतवाली में लाया गया। जहां उन्हें चाय पिलाने के बाद सभी के नाम पते लिखे गए और फिर उसी वाहन में बैठाकर ब्रजघाट पुल की दूसरी साइड में ले जाकर सम्मान पूर्वक ढंग में जनपद अमरोहा की सीमा के अंदर छोड़ दिया गया।

-नेशनल हाईवे की एक साइड में जाने वाले वाहनों को आवागमन में खूब उठानी पड़ी दिक्कत

भाकियू कार्यकर्ताओं द्वारा दिल्ली लखनऊ नेशनल हाईवे पर धरना देकर बैठने से दिल्ली की तरफ जाने वाली साइड से होकर जाने वाले वाहनों को आवागमन में खूब दिक्कत झेलनी पड़ीं, हालांकि मौके पर मौजूद सीओ आशुतोष शिवम और इंस्पेक्टर विनोद पांडेय की तत्परता के चलते राहगीरों को जाम जैसी स्थिति से नहीं जूझना पड़ा।

-छावनी जैसा मंजर देख हाईवे पर आ जा रहे राहगीरों में अनहोन की आशंका को लेकर रही भारी बेचैनी

भाकियू कार्यकर्ताओं का नेशनल हाईवे पर करीब डेढ़ घंटे तक धरना चलता रहा, जिसके कारण इस दौरान आसपास में बड़ी संख्या में पुलिस तैनात होने से वहां छावनी जैसी स्थिति बनी हुई थी। भारी तादाद में पुलिस को तैनात देख नेशनल हाईवे से होकर सफर करने वालों में अनहोनी की आशंका को लेकर बेचैनी बनी रही, जिसके चलते अधिकांश राहगीर अपने वाहनों को रोककर पुलिस की भारी तैनाती के विषय में पूछताछ करते हुए दिखाई दिए।

-निगरानी को धता साबित करते हुए टोल प्लाजा पार करने वाले भाकियू कार्यकर्ताओं पर नजर न पड़ती तो वे दिल्ली की तरफ कूच कर जाते

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर दिल्ली में फिर से किए जाने वाले आंदोलन के मद्देनजर पुलिस द्वारा निरंतर नेशनल हाईवे पर कड़ी निगरानी की जा रही है, जिसके अंतर्गत ब्रजघाट टोल प्लाजा पर दिनभर पुलिस तैनात रहती है। परंतु गंगा पार के जनपदों के भाकियू कार्यकर्ता पुलिस निगरानी को चकमा देते हुए टोल प्लाजा को पार करीब दस किलोमीटर दूरी पर गांव अठसैनी के सामने तक पहुंच गए। इसी बीच खुफिया विभााग की सूचना मिलते ही सीओ आशुतोष शिवम पीछा करने लगे, जिन्होंने अपनी गाड़ी सामने लगाकर भाकियू कार्यकर्ताओं को गांव अठसैनी के सामने रोक लिया। अन्यथा भाकियू कार्यकर्ता गढ़ क्षेत्र की सीमा को पार करने के बाद बाईपास से होकर दिल्ली को कूच करने में सफल हो सकते थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें