अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवोदय परीक्षा में पास होने के बाद भी छात्रा बैठी घर

नवोदय परीक्षा में पास होने के बाद भी छात्रा बैठी घर

पांच माह पूर्व कस्बा निवासी एक छात्रा ने पांचवीं कक्षा पास करने के बाद जबाहर नवोदय विद्यालय मे ऑनलाइन फार्म भरा था। जिसका छात्रा ने बीते माह परीक्षा देकर पास हो गई थी। नवोदय विद्यालय पहुचे परिजनों ने एडमिशन में लगने वाले दस्तावेज पूर्ण कर लाने की बात कही। इसके बाद परिजनों ने दस्तावेज पूर्ण करना शुरू किया तो उसमें पता चला कि जिस स्कूल से छात्रा ने पांचवीं तक की पढ़ाई पूरी की उसकी मान्यता ही नहीं है।जानकारी के अनुसार कस्बा धौलाना के बड़ा बाजार निवासी पकंज शर्मा ने बताया कि बस स्टैंड के समीप एक प्राईवेट स्कूल बेटी भव्या शर्मा पढ़ती थी। इसी वर्ष उसने पांचवीं पास करने के बाद नवोदय विद्यालय का ऑनलाइन फार्म कर बीते 21 अप्रैल को छात्रा ने परीक्षा देकर सबसे अच्छे अंक पाकर पास हुई थी। इससे छात्रा समेत परिवार खुश था। पास होने के बाद नवोदय विद्यालय पहुंचे परिजनों ने दस्तावेज के बारे में जानकारी ली तो विद्यालय ने दस्तावेजों की पूर्ण जानकारी दे दी। जिसके बाद परिजन दस्तावेज पूर्ण करने के बाद पुनः तो उसमें पांचवी की टीसी पर काउंटर साइन नहीं होने के कारण विद्यालय के प्रधानाचार्य ने लौटा दिया। इसके बाद परिजन छात्रा के स्कूल पहुंचे तो पता चला कि यह स्कूल अमान्यता प्राप्त है। खण्ड शिक्षा अधिकारी मुंशी लाल पटेल ने यह बात संज्ञान में नहीं होने की बात कहकर चुप्पी साध ली। इस संबंध में जबाहर नवोदय विद्यालय के प्रधानाचार्य पीके राय ने बताया कि छात्रा भव्या शर्मा ने पांचवीं अमान्यता प्राप्त स्कूल से की है। इस लिए अभी तक एडमिशन नहीं हो सका है। सीबीएसई बोर्ड के लिए भेज दिया है, वहां से दिशा निर्देश मिलने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Bhichhatra sitting after Navodaya exam MepasHome