ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश हापुड़ नई सरकार बनते ही जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की उठी मांग

नई सरकार बनते ही जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की उठी मांग

जनसंख्या समाधान फाउंडेशन ने हम दो हमारे दो का जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की मांग को लेकर मंगलवार को जिला मुख्यालय में राष्ट्रपति को संबोधित...


नई सरकार बनते ही जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की उठी मांग
हिन्दुस्तान टीम,हापुड़Wed, 15 May 2024 12:05 AM
ऐप पर पढ़ें

जनसंख्या समाधान फाउंडेशन ने हम दो हमारे दो का जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की मांग को लेकर मंगलवार को जिला मुख्यालय में राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन डीएम को सौंपा। उन्होंने केंद्र में नई सरकार बनते ही कानून को लागू करने की मांग की।

फाउंडेशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी गोवा राजेंद्र गुर्जर ने कहा कि प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद ने देश मे 1950 से 2015 तक जनसंख्या वृद्धि के आंकड़े प्रस्तुत किए। जिनमें आंकड़े असंतुलन देश के लिए सही नहीं है, जबकि यहा सरकारी आंकड़े 2015 तक के है। उन्होंने कहा कि वर्ष-2024 तक के आंकड़े अगर आते हैं तो बहुत ही चौकाने वाले होंगे। उन्होंने कहा कि जनसंख्या समाधान फाउंडेशन पिछले दस वर्षों से जनसंख्या असंतुलन के ख़तरे को बताता रहा।

जिसके लिए संगठन ने देश के चार सौ जिलों में अनेकों धरने. ज्ञापन, रेलियां, पदयात्राएं की। इसके अलावा देश के 125 सांसदों के समर्थन पत्र लेकर राष्ट्रपति को अवगत कराया गया। फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल चौधरी ने 22 दिन का अनशन किया। प्रधानमंत्री के वरिष्ठ सलाहकार से वार्ता के बाद केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह व सांसद राजेंद्र अग्रवाल को भी ज्ञापन सौंपा। जिलाध्यक्ष सुंदर कुमार आर्य ने कहा कि आज हम राष्ट्रपति से ज्ञापन के माध्यम से अनुरोध करते करते हैं कि चुनाव के तुरंत बाद देश में सख्त जनसंख्या नियंत्रण क़ानून बनाए जिसमें दो से तीसरा बच्चा पैदा करने पर दम्पति का वोट राईट खत्म किया जाए।

इस मौके पर राजेंद्र गुर्जर, सुंदर कुमार आर्य, सारिका सिरोही, शशि गोयल, ईश्वर कुमारी सिसोदिया, दुर्गेश तोमर, ओमप्रकाश कुमार, कटार सिंह गुर्जर, प्रदीप शर्मा, महेंद्र त्यागी, अमरेश त्यागी, लाखन सैनी उपस्थित रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें