ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश हापुड़आजादी के बाद अब बहुरेंगे उपेक्षित गांवों के दिन

आजादी के बाद अब बहुरेंगे उपेक्षित गांवों के दिन

देश की आजादी से लेकर अब तक शुद्ध पेयजल को तरस रहे उपेक्षित गांवों के दिन अब बहुत जल्द बहुरने जा रहे हैं, क्योंकि शासन स्तर से चल रहे जल जीवन मिशन के...

आजादी के बाद अब बहुरेंगे उपेक्षित गांवों के दिन
हिन्दुस्तान टीम,हापुड़Thu, 22 Feb 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

देश की आजादी से लेकर अब तक शुद्ध पेयजल को तरस रहे उपेक्षित गांवों के दिन अब बहुत जल्द बहुरने जा रहे हैं, क्योंकि शासन स्तर से चल रहे जल जीवन मिशन के अंतर्गत चालू वित्तीय योजना में दो दर्जन से अधिक गांवों में करोड़ों की लागत से टंकियों का निर्माण कराया जाना है।

प्रधानमंत्री मोदी ने जनहित से जुड़ीं कल्याणकारी योजनाओं के साथ ही हर घर जल से नल पहुंचाने वाली महत्वकांक्षी योजना को अपनी पहली प्राथमिकता में लिया हुआ है। जिसको लेकर केंद्र सरकार द्वारा जल जीवन मिशन के अंतर्गत उपेक्षित गांवों में शुद्ध पेयजल आपूर्ति मुहैया कराने के साथ ही हर घर जल से नल पहुंचाने की कवायद बड़े स्तर पर की जा रही है। गंगा खादर क्षेत्र से जुड़े उपेक्षित गांवों में आजादी के साढ़े सात दशक बीतने के बाद भी ग्रामीणों को उथले एवं प्रदूषित पानी का सेवन करना ही मजबूरी बनी हुई है, क्योंकि उनमें अभी तक सरकारी स्तर से टंकियों का निर्माण नहीं हो पाया है। गंगा में बाढ़ आने के दौरान जंगल से लेकर आबादी में बड़े स्तर पर जलभराव होने से भूजल स्तर ऊपर आ जाता है, जिससे कई हैडपंप चलाए बिना ही पानी उगलने लगते हैं। आबादी का दूषित पानी जलभराव के साथ हैंडपंपों में पहुंचने से आए साल संक्रामक बीमारी पांव पसार लेती हैं। सरकार की इस योजना के अंतर्गत चक लठीरा समेत कई गांवों में कार्यदायी संस्था जल निगम द्वारा टंकी निर्माण की कवायद प्रारंभ कर दी गई हैं। लठीरा में ग्राम प्रधान निरंजन सिंह राणा ने वैदिक रीति रिवाज के बीच आधारशिला रखते हुए ग्रामीणों को बहुत जल्द शुद्ध पेयजल आपूर्ति मिलने का भरोसा जताया।

--महिला बच्चों समेत दर्जनों ग्रामीणों की जान तक ले लेता है दूषित पानी

भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष इंद्रजीत सोलंकी, प्रधान टीकम सिंह, सुशील राणा, निरंजन राणा, पूर्व प्रधान बबलू खडग़वंशी का कहना है कि मोदी सरकार ने हर घर जल से नल योजना के तहत टंकियों का निर्माण कराने की स्वीकृति देकर सराहनीय कार्य किया है। क्योंकि हजारों परिवार देश की आजादी से लेकर अब तक उथला और दूषित पानी पीने को मजबूर हैं। जिसके कारण आए साल महिला बच्चों समेत दर्जनों लोग दूषित पानी के कारण बीमारियों की चपेट में आकर अपनी जान तक गंवा देते थे।

--दो दर्जन से अधिक गांवों में टंकी बनने से हजारों परिवारों को अब दूषित पेयजल पीने की मजबूरी से पूरी तरह मिलेगी निजात

जल निगम के सीनियर इंजीनियर रंजीत कुमार ने बताया कि शासन की हर घर नल से जल वाली योजना के तहत गढ़ गंगा खादर क्षेत्र के गांव चक लठीरा, नयाबांस, गड़ावली, इनातपुर, भगवंतपुर, अब्दुल्लापुर, शाहपुर चौधरी, रामपुर न्यामतपुर, हैदरपुर, सैदपुर, मोहम्मदपुर शाकरपुर समेत पच्चीस गांवों में टंकी निर्माण के साथ ही भूमिगत पाइप लाइन बिछाकर प्रत्येक घर में शुद्ध पेयजल की सप्लाई पहुंचाई जाएगी। उन्होंने बताया कि उक्त गांवों में इस योजना पर पचास करोड़ से भी अधिक की रकम खर्च होनी संभव है। गांव चक लठीरा में बनाए गए प्रोजैक्ट में टंकी के साथ ही सडक़ों में टूटफूट की मरम्मत और भूमिगत पाइप लाइन बिछाने जैसे कार्यों में दो करोड़ से भी अधिक की रकम खर्च होगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें