If the thinking will change then the village will also become ideal - सोच बदलेगी तो गांव भी बनेंगे आदर्श DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोच बदलेगी तो गांव भी बनेंगे आदर्श

सोच बदलेगी तो गांव भी बनेंगे आदर्श

1 / 2मटका फिल्टर, सोखपिट जैसे कार्य सराहनीय है। इससे डायरिया, पीलिया तथा अन्य गंदे पानी से होने वाली बीमारियों में कमी आएगी। लोगों की सोच बदली है तो गांव आदर्श बनेगा। उक्त उद्गार उपजिलाधिकारी सुरेश कुमार...

सोच बदलेगी तो गांव भी बनेंगे आदर्श

2 / 2मटका फिल्टर, सोखपिट जैसे कार्य सराहनीय है। इससे डायरिया, पीलिया तथा अन्य गंदे पानी से होने वाली बीमारियों में कमी आएगी। लोगों की सोच बदली है तो गांव आदर्श बनेगा। उक्त उद्गार उपजिलाधिकारी सुरेश कुमार...

PreviousNext

मटका फिल्टर, सोखपिट जैसे कार्य सराहनीय है। इससे डायरिया, पीलिया तथा अन्य गंदे पानी से होने वाली बीमारियों में कमी आएगी। लोगों की सोच बदली है तो गांव आदर्श बनेगा। उक्त उद्गार उपजिलाधिकारी सुरेश कुमार ने पीडब्लूसी इण्डिया फाउंडेशन के सहयोग से परमार्थ समाजसेवी संस्थान द्वारा ग्राम धरऊपुर के प्राथमिक विद्यालय में आयोजित स्वच्छ पेयजल, स्वच्छ जीवन उद्घाटन समारोह में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि अन्ना प्रथा को कम करने के लिए जो भी मदद होगी की जाएगी। पीडब्लूसी इण्डिया फाउंडेशन दिल्ली के उपाध्यक्ष जयवीर ने कहा कि कम पैसे में प्रभाव अच्छे आ रहे हैं। शौचालय उपयोग करना लोगों के हाथ में है। बुंदेलखण्ड में हम और काम करेंगे। छोटे-छोटे काम से लोगों की गरीबी में कमी होती है।

संस्थान के निदेशक अनिल सिंह ने कहा कि गांव की पानी पंचायत बहुत मजबूत है। जो लोगों को जागरूक करके कम लागत के मटका फिल्टर, वाशिंग प्लेट फार्म एवं सोखपिट निर्माण, स्कूल शौचालय, कम्पलेक्स, व्यक्तिगत शौचालय, आउटलेट निर्माण करवाकर अच्छा काम किया है। सीनियर प्रोग्राम ऑफीसर आकृति ने संस्था के कार्यों के बारे में बताया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: If the thinking will change then the village will also become ideal