DA Image
Wednesday, December 1, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश गोरखपुरबिना सोए कर लेंगे ड्यूटी लेकिन अब रनिंग रूम में नहीं रहेंगे

बिना सोए कर लेंगे ड्यूटी लेकिन अब रनिंग रूम में नहीं रहेंगे

हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरNewswrap
Mon, 28 Jun 2021 04:10 AM
बिना सोए कर लेंगे ड्यूटी लेकिन अब रनिंग रूम में नहीं रहेंगे

गोरखपुर। वरिष्ठ संवाददाता

रनिंग रूम की बदहाली की ओर ध्यान खींचने के लिए टिकट परीक्षकों ने अनोखा तरीका निकाला है। कुछ टिकट परीक्षक ड्यूटी करने के बाद रनिंग रूम जाने की बजाय प्लेटफार्म पर ही सो गए। इस घटना से स्टेशन पर हड़कंप मच गया।

उधर, टिकट चेकिंग स्टाफ एसोसिएशन रनिंग रूम को लेकर कड़ा विरोध जताया और कहा कि अगर ऐसे ही होता रहा तो कोई भी टीटीई ड्यूटी करने के बाद रेस्ट नहीं करेगा। लगातार ड्यूटी करेगा, ऐसे में अगर किसी भी टीटीई को कुछ हुआ तो पूरी जिम्मेदारी रेल प्रशासन की होगी।

आईआरटीसीएसओ के संरक्षक टीएन पाण्डेय ने बताया कि पूर्वोत्तर रेलवे के गोरखपुर और लखनऊ के रनिंग रूम की हालत इस कदर खराब है कि वहां कोई भी टीटीई सोना या आराम करना पसंद नही करता। भीषण गर्मी के बावजूद भी न तो एसी है और न ही कूलर है। गद्दे फटे हुए हैं और चादर भी मैला रहता है।

फर्श पर बिखरा रहता है पानी

टीटीई पवन मिश्रा ने बताया कि लोको पायलट और गार्ड के रनिंग रूम में तो सभी सुविधाएं हैं लेकिन टीटीई रनिंग रूम की स्थिति बद से बदतर है। फर्श पर पानी बिखरा रहता है, इसे देख अंदर जाने की इच्छा ही नही होती है। कोरोना में जहां हर समय सैनीटाइजेशन की बात होती है वहां हमारे रनिंग रूम में रोजाना सफाई तक नहीं होती है।

बिस्तर पर चादर तक नहीं

टीटीई टीएन पाण्डेय ने बताया कि टीटीई ट्रेन में लगातार चार से पांच घंटे तक एक कोच से दूसरे कोच घूम-घूम कर टिकट चेक करते हैं। इस दौरान लगातार खड़े ही रहते हैं। ड्यूटी पूरी करने के बाद जब टीटीई रेस्ट के लिए रनिंग रूम जाते हैं तो आराम ही नहीं कर पाते हैं। कहा कि हमारे टीटीई अब रनिंग रूम की र्दुव्यस्था के चलते अब प्लेटफार्म पर सोने लगे हैं। कहा कि अब यह सब बर्दाश्त नहीं होगा। कई बार हम लोग इसके लिए कई बार रेल प्रशासन से गुहार लगा चुके हैं लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ। अगर ऐसे ही होता रहा तो सभी टीटीई बिना रेस्ट किए ही काम करेंगे, ऐसे में कुछ भी होने पर पूरी जिम्मेदारी रेल प्रशासन की होगी।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें