DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संतकबीरनगर में पीने के पानी का इंतजाम बिगड़ा, वजह हैं टुल्‍लू 

संतकबीरनगर के खलीलाबाद नगरपालिका में शहर की पेयजल आपूर्ति की पाइप लाइनों को जगह-जगह ब्रेक कर मोटर जोड़ दिया गया है। इसकी वजह से शहर के अंतिम व्यक्ति तक पानी नहीं पहुंच रहा है और लोग पानी के लिए त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। शहर में एक दो नहीं बल्कि 250 से अधिक घरों में अवैध मोटर का कनेक्शन जोड़ दिया गया है। 

जिस रफ्तार से आबादी बढ़ी उस रफ्तार से नगरपालिका की अन्य सुविधाएं नहीं बढ़ी हैं। शहर में लगभग तीन दशक पहले एक पानी की टंकी स्थापित की गई थी, जिसकी क्षमता 22 हजार किलोलीटर है। इस पानी की टंकी से शहर की आधी आबादी को ही बमुश्किल पानी पिलाया जा सकता था। लोगों का परिवार बढ़ा तो पानी की जरूरतें बढ़ी। 

लोगों ने फर्स्ट फ्लोर और सेकेंड फ्लोर पर पानी पहुंचाने के लिए पालिका की पाइप लाइन में मोटर जोड़ दिया। हालत यह हो गई है कि जो लोग पानी का कनेक्शन लिए भी हैं उनके घरों तक पानी नहीं पहुंच पा रहा है। शहर में 250 से अधिक लोग पानी की पाइप लाइन काट कर मोटर कनेक्शन जोड़ लिया है। घरों तक पानी नहीं पहुंचने की वजह से अंसार टोला के मोहम्मद अली, बरई टोला के नूर आलम ने पालिका में शिकायत भी की है। 

चार मोहल्ले से हटाए गए 25 मोटर कनेक्शन 
नगरपालिका ने मोटर हटाने का अभियान शुरू किया तो हकीकत सामने आ रही है। चार मोहल्लों में 25 घरों से मोटर को हटवाया गया है। पालिका कर्मचारी अपने प्लंबर लेकर जा रहे हैं और मोटर को डिस्कनेक्ट कर रहे हैं। साथ ही मोटर लगाने वाले परिवारों को चेतावनी भी दे रहे हैं। पुरानी तहसील उत्तरी, दक्षिणी, अंसार टोला, पठान टोला में अभियान चला कर 25 मोटर को हटवाया गया है। नपा ईओ बीना सिंह ने कहा कि पालिका का पानी चुराने वालों को चिह्नित किया जा रहा है। ऐसे लोगों को चेतावनी दी जा रही है। न सुधरने पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।

पानी का प्रेशर कम होने से टुल्लू लगाना मजबूरी  
दूसरी ओर उपभोक्ताओं की शिकायत है कि पालिका से होने वाली सप्लाई का पानी मिल ही नहीं रहा है। टुल्लू लगाने से बड़ी मुश्किल से थोड़ा पानी मिल पाता है। पहली मंजिल पर कभी पानी चढ़ ही नहीं पाता है। यह समस्या पूरे शहर की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Water supply is affected due to Tullu in Santkabirnagar