अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वह पहली नजर का प्यार जो सात जन्मों के बंधन में बदल गया

वह पहली नजर का प्यार जो सात जन्मों के बंधन में बदल गया

आज वैलेंटाइन डे है। ऐसे में प्यार, समर्पण और सहयोग की चर्चा लाजमी है। वैसे भी अगर एक दूजे को चाहने वाले दो अलग-अलग संप्रदाय के हों तो उनके प्यार का सफर थोड़ा कठिन जरूर होता है। लेकिन कठिन सफर को पार कर आज नौतनवा के गुड्डू खान और नायला सफल और सुखद मुकाम हासिल किए हैं।

पूरे जिले में जब भी जातीय वर्जनाओं को तोड़ने की बात होती है तो इन दोनों का जिक्र जरूर आता है। ऐसा होने का पर्याप्त कारण भी है। गुड्डू मुस्लिम तो नायला इसाई परिवार से ताल्लुक रखती हैं। लेकिन दोनों की चाहत में जातीय बंधन बाधा नहीं बनी। नौतनवा की एक डिस्पेंसरी पर पहली नजर का प्यार परवान चढ़ा और आज सुखद वैवाहिक जीवन में बदल गया।

गुड्डू खान आज नौतनवा नगर पालिका के अध्यक्ष हैं। इसके पहले उनकी पत्नी नायला भी अध्यक्ष रह चुकी हैं। विश्वास और समर्पण का मधुर संबंध ही है कि दोनों समय-समय पर एक दूसरे को उत्साहित करते हैं। आज जिस मुकाम पर गुड्डू हैं उसमें अहम योगदान नायला का है। गृहस्थी से लेकर राजनीतिक सफर में यह जोड़ी गजब का सामंजस्य बैठाती है। हलांकि वर्ष 1991 में दोनों जब करीब आए तो उस समय सामाजिक प्रताड़ना का भी सामना करना पड़ा। तमाम जद्दोजहद के बाद दोनों एक हो गए।

गुड्डू के जीवन में नायला के आगमन के बाद से ही उनकी पूरी दुनिया बदल गई। तीन बार सभासद हुए तो दो बार पालिका अध्यक्ष। एक बार नायला भी अध्यक्ष बनीं। ऐसा नहीं की सामाजिक ताने बाने में दोनों अपनी पारीवारिक जिम्मेदारी से भटकते हैं। बच्चों के साथ ही पूरे परिवार को भरपूर समय देते हैं।

गुड्डू कहते हैं कि जीवन में प्रेम के अलावा कुछ भी नहीं है। प्रेम के रथ पर सवार होकर ही वे सफलता की सीढ़ियां चढ़े हैं। इस ढाई अक्षर ने उनके जीवन और उनके व्यक्तित्व को ही बदल दिया। आज वह मजहबी बंदिशों से परे हर धर्म में प्रेम ही तलाशते हैं। सभी के प्रति श्रद्धा भाव रखते हुए सेवा करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Velentine day special in Maharajganj