DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसानों का 346 करोड़ रुपये दबाए बैठी हैं गोरखपुर मंडल की चीनी मिलें

विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में किसानों के गन्ना मूल्य का भुगतान अधिकतम 14 दिन में कराने का वादा किया था लेकिन हकीकत इसके उलट है। पेराई सत्र खत्म हुए 45 दिन बीत चुके हैं और गोरखपुर मंडल की सात चीनी मिलें किसानों का 346 करोड़ रुपये दबाकर बैठी है। किसानों को बकाया मिलने का इंतजार है।

दिक्कत
कुशीनगर की ढाढा बुजुर्ग चीनी मिल ने कर दिया है 100 फीसदी बकाए का भुगतान
भाजपा ने किया था 14 दिन में भुगतान कराने का वादा
पेराई सत्र खत्म हुए बीत गए 45 दिन

गन्ना भुगतान क्या रुका, रुक गई इस किसान की तरक्‍की

कुशीनगर की पांच चीनी मिलों को 1098 करोड़ रुपये का भुगतान करना था। बुधवार तक 844 करोड़ रुपये किसानों को दिए जा चुके थे। 254 करोड़ रुपये अभी भी किसानों का बकाया है। कुशीनगर जिले की ढाढाबुजुर्ग चीनी मिल मंडल की इकलौती मिल हैं जिसने 100 फीसदी किसानों को भुगतान कर दिया है। खड्डा चीनी मिल पर 23 करोड़, रामकोला-पी पर 76 करोड़, कप्तानगंज पर 75 करोड़ और सेवरही चीनी मिल पर 79 करोड़ रुपये बकाया है। 

‘‘गोरखपुर मंडल की चीनी मिलों ने 73.76 फीसदी गन्ना मूल्य का भुगतान कर दिया है। 26.24 फीसदी का भुगतान भी शीघ्र ही किसानों को करा दिया जाएगा। किसानों के हित को सुरक्षित रखने के लिए मिलों द्वारा बनाई गई चीनी को जिला गन्ना अधिकारी एवं एसडीएम की निरानी में रखा गया है। चीनी की बिक्री से मिलने वाली रकम को एस्क्रो अकाउंट (ज्वाइंट खाता) खुलवा कर डाला जा रहा है। इस खाते में आने वाली 85 फीसदी राशि से किसानों का गन्ना मूल्य का भुगतान सुनिश्चित किया जा रहा है।’’
डॉ. आरबी राम, उप गन्ना आयुक्त, पूर्वी क्षेत्र

देवरिया जिले में एक मात्र चालू प्रतापपुर चीनी मिल ने 46 करोड़ रुपये का गन्ना किसानों से खरीदा। बुधवार तक 23 करोड़ रुपये गन्ना मूल्य के रूप में किसानों में भुगतान किया गया। 23 करोड़ रुपये किसानों का बकाया है। उधर महराजगंज जनपद की गडौरा और सिसवा बाजार चीनी मिल ने 174 करोड़ रुपये का गन्ना किसानों से लिया, लेकिन अब तक 106 करोड़ रुपये का ही भुगतान किया है। 68 करोड़ रुपये का अब भी बकाया है। गड़ौरा चीनी मिल पर 42 करोड़ रुपये और सिसवा बाजार चीनी मिल पर 26 करोड़ रुपये का बकाया है। 

संतकबीरनगर में भुगतान के लिए परेशान गन्‍ना किसान, 10 प्रतिशत अब भी बकाया

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The sugar mills of the Gorakhpur division are sitting under pressure of Rs 346 crore for farmers