DA Image
12 जुलाई, 2020|6:48|IST

अगली स्टोरी

महोत्सव में बिखरेगी गंवाई मिट्टी की सोंधी महक

11 जनवरी से शुरू हो रहे गोरखपुर महोत्सव में अगर सोनू निगम का सुगम संगीत होगा, अनुराधा पौड़वाल का भजन होता तो एक हिस्से से गांव गिराव की मिट्टी की सोंधी महक भी वहां आने वालों को आकर्षित करेगी। इस हिस्से में किसान व विज्ञान का अद्भुत संगम भी दिखेगा। खेती के नए तौर-तरीके का ज्ञान भी मिलेगा।

संयुक्त कृषि निदेशक डॉ. ओमबीर सिंह, उप निदेशक डॉ. संजय सिंह, उप निदेशक उद्यान डॉ. डीके वर्मा, जिला उद्यान अधिकारी बलजीत सिंह, जिला मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. डीके शर्मा, जिला कृषि अधिकारी अरविंद कुमार चौधरी ने गुरुवार को डीडीयू परिसर में होने जा रहे गोरखपुर महोत्सव के आयोजन स्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे स्टॉल का काम तत्काल पूरा करें। मेला परिसर में 11 जनवरी से 15 जनवरी तक पांच दिवसीय किसान मेला, कृषक गोष्ठी और कृषि प्रदर्शनी आयोजित होगी। कृषि, पशुपालन, उद्यान, भूमि सुधार, कृषि रक्षा, गन्ना, दुग्ध उत्पादन, खाद्य प्रसंस्करण, मत्स्य, रेशम, कृषि विज्ञान केंद्र, कृभको, इफको समेत कृषि क्षेत्र से जुड़ी निजी कंपनियों भी 55 के करीब स्टॉल लगेंगे। फसल और कृषि प्रतियोगिता भी आयोजित होगी जिसमें किसानों को उपहार भी मिलेगा।

किसानों को भी मिलेगा प्रोत्साहन : प्रगतिशील किसान भी अपने उत्पादन और उपलब्धियों को प्रदर्शित कर सकेंगे। किसानों को मृद्रा परीक्षण, भूमि संरक्षण, जल प्रबंधन, जैविक खेती, एकीकृत कीट प्रबंधन, समन्वित कृषि प्रणाली, पोषक तत्व प्रबंधन, सोलर पम्प, नव विकसित कृषि यंत्र एवं कृषि रक्षा उपकरणों का सजीव प्रदर्शन और किसानों को मिलने वाली सुविधाओं की जानकारी प्रदान की जाएगी। इसके अलावा वेस्ट डिकम्पोजर, कृषि रक्षा रसायन, बायोपेस्टिसाइड, बायोफर्टिलाइजर, आर्गेनिक फर्टिलाइजर, मृदा सुधारक, स्प्रिंकलर, ड्रिप सिंचाई पद्धति के प्रदर्शन एवं अनुमन्य अनुदान की जानकारी दी जाएगी।

उपकरण और अनुदान की मिलेगी जानकारी

वैज्ञानिक तकनीक और उपकरण भी प्रदर्शनी में दिखेंगे। मसल मल्चिंग, वाटर कैरिंग पाइप, ट्रैक्टर, लेजर लेबलर, मल्चर, जीरो टिल सीड ड्रिल, फार्म मशीनरी बैंक, कस्टम हायरिंग सेंटर, बखारी, लपेटा पाइप, तिरपाल, स्ट्रा चापर, सुपर सीडर, रोटावेटर, स्ट्रा रीपर, रोटरी स्लेशर, मिनी दाल मिल, ऑयल एक्ट्रेक्शन मशीन आदि को प्रदर्शित करते हुए अनुदान की जानकारी भी दी जाएगी।

नई तकनीकी से भी रूबरू होंगे किसान

किसान मेला में किसानों को केसीसी, फसल बीमा, फसल ऋण, पीएम किसान योजना, पीएम मानधन योजना, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना, आत्मा योजना, इन सीटू योजना, कृषि यंत्रीकरण योजनाओं के साथ अन्य जनकल्याणकारी योजनों से अवगत कराया जाएगा। मशरुम, फल, फूल, सब्जी, बागवानी, औषधीय, सुगंधीय फसलों बैंकयार्ड पोल्ट्री, पाली हाउस, एग्रो फारेस्ट्री, मछली पालन, हाइड्रो पोनिक्स, एरोपोनिक्स, मौन पालन, वर्टीकल गार्डन, लो टनल पॉली हाउस, गन्ना की ट्रेंच विधि की जानकारी एक ही स्थल पर मिलेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: The smell of lost soil will be scattered in the festival