DA Image
30 नवंबर, 2020|5:04|IST

अगली स्टोरी

फर्म ने ट्रांसफार्मर लगाया ही नहीं, जेई ने कर दी एमवी

फर्म ने ट्रांसफार्मर लगाया ही नहीं, जेई ने कर दी एमवी

बिजली निगम में एक ठेकेदार द्वारा क्षमता वृद्वि का ट्रांसफार्मर लगाए बिना ही मोहद्दीपुर क्षेत्र के जेई से 2.49 लाख के कार्य का मेजरमेंट कराने का मामला प्रकाश में आया है। एसडीओ की शिकायत पर उजागर हुई इस वित्तिय अनियमितता की जांच के लिए मुख्य अभियंता ने दो एक्सईएनों की टीम बनाई है। हुआ यह है कि मोहद्दीपुर क्षेत्र में आरकेबीके शोरूम के पास क्षमता वृद्वि का 250 केवीए ट्रांसफार्मर लगना था। ठेकेदार की लेटलतीफी देखकर सड़क चौड़ीकरण करा रहे लोनिवि ठेकेदार ने खुदका ट्रांसफार्मर लगा दिया। लोनिवि ने ठेकेदार के इस कार्य की एमवी भी कर दी। बावजूद इसके मोहद्दीपुर क्षेत्र के जेई ने ट्रांसफार्मर लगाने के इस कार्य को बिजली ठेकेदार का कार्य दिखाते हुए मेजरमेंट (एमवी)कर दिया है। मामला उजागर होने पर कर्मचारी व अभियंता हैरान है। महकमे में चर्चाओं का बाजार गर्म है।

नगरीय वितरण खण्ड तृतीय क्षेत्र के मोहद्दीपुर में आरकेबीके शो रूम के सामने लगा 400 केवीए ट्रांसमफार्मर ओवरलोड हो गया था। उसका लोड कम करने के लिए एक और 250 केवीए का ट्रांसफार्मर लगाने का प्रस्ताव खण्ड ने तैयार कर एसई को भेजा। नगरीय वितरण मण्डल कार्यालय ने क्षमता वृद्वि का ट्रांसफार्मर लगाने के लिए अप्रैल-19 में 2.49 लाख का टेण्डर प्रकाशित कराया। यह टेण्डर मेसर्स हरिओम इण्टरप्राइजेज को मिला। मई-19 में शहर में राष्ट्रपति का कार्यक्रम होना था। ऐसे में एयरपोर्ट से पैडलेगंज तक सड़क चौड़ीकण के कार्य में तेजी आ गई। लोनिवि ठेकेदार को एयरफोर्स स्टेशन से लेकर मोहद्दीपुर चौराहे के बीच में लाइन शिफ्टिंग के साथ ही दो 250 केवीए के ट्रांसफार्मर भी लगाने थे। लोनिवि ठेकेदार ने मई-19 में आरकेबीके शो रूम के पास डबल पोल लगाकर उसपर ट्रांसफार्मर लगा दिया। लोनिवि ने ठेकेदार के इस कार्य की एमवी भी कर दी। इस कार्य को क्षेत्र के जेई ने मेसर्स हरिओम इण्टर प्राइजेज का कार्य बताकर हाल ही में एमवी करके एसडीओ के पास भेज दिया। एसडीओ नीति मिश्रा के संज्ञान में पहले से यह मामला था कि सड़क चौड़ीकरण के दौरान लोनिवि ठेकेदार ने परिवर्तक लगाया है। एसडीओ नीति मिश्र ने कहा कि ठेकेदार ने जब काम ही नहीं किया तो एमवी कैसे हो गई? बिना काम कराए ही कोई ठेकेदार क्यों भुगतान लेगा? यदि उससे दूसरे स्थान पर काम कराया गया तो एमवी बुक में उसका उल्लेख होना चाहिए था। हमने मामले की गम्भीरता को देखते हुए उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया है।

एसडीओ ने जानकारी की पुष्टि की फिर शिकायत

एसडीओ ने पुष्टि के लिए माध्यमिक कार्य खण्ड को पत्र भेजकर पूछा कि आरकेबीके के समक्ष लगे 250 केवीए परिवर्तन का मापन संख्या- 98 पेज संख्या 49 को अवर अभियंता मोहद़दीपुर ने प्रस्तुत किया है। यह संज्ञान में आया है कि यह कार्य सड़क चौड़ीकरण के दौरान विद्युत माध्यमिक उपखण्ड की देखरेख में लोनिवि ने किया है। माध्यमिक कार्य खण्ड ने अपने जवाब में भी लिखा है कि लोनिवि ठेकेदार ने ट्रांसफार्मर लगाया है। कार्य की एमवी भी लोनिवि ने की है।

एसडीओ की सजगता से फर्जी भुगतान रुका

मोहद्दीपुर क्षेत्र की एसडीओ नीति मिश्रा की सजगता से ठेकेदार फर्जी भुगतान नहीं ले पाया। ठेकेदार की मिलीभगत से जेई ने कार्य का मेजरमेंट कर भुगतान के लिए फाइल आगे बढ़ा दी थी। बिना काम कराए ही एमवी होने का मामला संज्ञान में आने पर एसडीओ को दाल में कुछ काला नजर आया। उन्होंने मामले से सीई को अवगत कराया। इसके साथ ही माध्यमिक कार्यखण्ड के एक्सईएन को पत्र लिखकर अपनी जानकारी की पुष्टि भी की।

मेसर्स हरिओम इण्टरप्राइजेज से दूसरी जगह गरीमा गली में 250 केवीए ट्रांसफार्मर लगवाया गया है। जेई को एमवी बुक में यह लिखना चाहिए था। जेई व एसडीओ में तालमेल ठीक नहीं होने से यह मामला तूल पकड़ा है। अब जांच हो रही है। उसकी रिपोर्ट भी जल्द ही आ जाएगी।

ई. वीके चौधरी, एक्सईएन

मोहद्दीपुर क्षेत्र के अवर अभियंता द्वारा ठेकेदार को फायदा पहुचाने के लिए गलत एमवी करने का मामला संज्ञान में आया है। मामले की जांच के लिए दो अभियंताओं की कमेटी बना दी है। रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ बता पाएंगे।

ई. देवेन्द्र सिंह, मुख्य अभियंता गोरखपुर जोन

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The firm did not install the transformer JE did MV