DA Image
17 फरवरी, 2020|7:20|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माइनर से रेप में दस साल की कैद, 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया 

rape victim  file photo

विशेष न्यायाधीश पाक्सो एक्ट सत्यानंद उपाध्याय ने नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म करने के जुर्म में दोषी पाए जाने पर चंदन गौड़ को दस साल की कठोर कैद और 25 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना न देने पर अभियुक्त को छह महीने की कारावास की सजा अलग से भुगतनी होगी।

अभियोजन पक्ष की ओर से विशेष लोक अभियोजक विजेन्द्र सिंह का कहना था कि घटना 15 मई 2013 शाम तीन बजे की है। पीड़िता का पिता राजगीर का काम करता है। वह घटना के दिन पीपीगंज काम करने गया हुआ था। उसकी पत्नी और बच्चे घर पर थे। अभियुक्त उसके घर गया और नाबालिग लड़की को बहलाफुलाकर ले गया और दुष्कर्म किया। 

दूसरी बेटी पहुंची तो उसने शोर मचाया और आरोपी को पकड़ने की कोशिश लेकिन आरोपी चंदन उसके साथ हाथापाई करके भाग निकला। अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद चंदन गौड़ के खिलाफ दुष्कर्म का आरोप सिद्ध पाया और उसके खिलाफ सजा सुनाई। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:ten years imprisonment in rape case with 25 thousand fine in gorakhpur