DA Image
27 फरवरी, 2020|4:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रौद्योगिकी ने अंतरिक्ष विज्ञान में भारत को दिलाई कई उपलब्धियां

प्रौद्योगिकी ने अंतरिक्ष विज्ञान में भारत को दिलाई कई उपलब्धियां

डीडीयू में भौतिकी विभागाध्यक्ष प्रो. शांतनु रस्तोगी ने कहा कि सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल ने भारत को अंतरिक्ष विज्ञान में कई उपलब्धियां दिलाईं। मिशन चंद्रयान टू के बाद अब मंगलयान को लेकर इसरो के वैज्ञानिक काम कर रहे हैं। अंतरिक्ष में लैब स्थापित करने पर भी काम चल रहा है।

प्रो. रस्तोगी शुक्रवार को डीडीयू के एचआरडी सेंटर में चल रहे पुनश्चर्या पाठ्यक्रम में ‘सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी विषय पर व्याख्यान दे रहे थे। प्रोफेसर रस्तोगी ने भारत की विभिन्न अंतरिक्ष परियोजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

द्वितीय सत्र में प्रतिभागियों ने माईक्रोटीचिंग प्रस्तुत किया। मूल्यांकनकर्ता के रूप में भूगोल विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एसके सिंह एवं रक्षा अध्ययन विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर एससी पाण्डेय रहे।

तृतीय सत्र में भौतिकी विभाग के आचार्य, अधिष्ठाता छात्र कल्याण एवं गुरु गोरक्षनाथ शोध पीठ के कार्यकारी अधिकारी प्रोफेसर रविशंकर सिंह ने क्वांटम इन्फार्मेशन के बारे में विस्तृत से जानकारी दी। अंत में प्रतिभागियों द्वारा प्रैक्टिकल जानकारी से अवगत कराने के लिए कम्प्यूटर पर प्रैक्टिकल कार्य कराए गए। अतिथियों का स्वागत एवं आभार ज्ञापन कार्यक्रम समन्वयक प्रो. राकेश कुमार तिवारी ने किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: Technology brings many achievements to India in space science