Team to check quality sample for all blocks - गुणवत्ता जांचने पहुंची टीम, सभी ब्लाक के लिए सैंपल DA Image
14 दिसंबर, 2019|2:19|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुणवत्ता जांचने पहुंची टीम, सभी ब्लाक के लिए सैंपल

गुणवत्ता जांचने पहुंची टीम, सभी ब्लाक के लिए सैंपल

जीडीए की चर्चित आवासीय योजना लोहिया एन्क्लेव की गुणवत्ता से खिलवाड़ करने वाले इंजीनियरों और फर्मों की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही हैं। कमिश्नर के निर्देश पर योजना के सभी 40 ब्लाकों के निर्माण कार्यों की गुणवत्ता की जांच शुरू हो गई है। शुक्रवार को ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रथमेश कुमार के नेतृत्व में जांच कमेटी से सैंपल लिया। सैंपल को जांच के लिए प्रदेश के विभिन्न आईआईटी को भेजा जाएगा। जांच कमेटी में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के अलावा पीडब्ल्यूडी और आरईएस के अधीक्षण अभियंता भी शामिल हैं।

लोहिया एन्क्लेव फेज-एक की खराब गुणवत्ता के मामले में अब सभी आठ फर्म और दस ठेकेदार कार्रवाई की जद में हैं। इसी क्रम में जांच कमेटी ने रामगढ़ताल स्थित लोहिया एन्क्लेव के सभी ब्लाकों से निर्माण सामग्री के नमूने लिए। अब बाकी ब्लाकों की जांच शुरू होने पर माना जा रहा है कि इन अभियंताओं के अलावा लोहिया एन्क्लेव में काम करने वाली सभी आठ फर्म और दस ठेकेदारों के खिलाफ भी कार्रवाई तय है।

2017 में ही मिल जाना था कब्जा

लोहिया एन्क्लेव में करीब साढ़े चार सौ फ्लैट हैं। प्राधिकरण ने 2017 में ही कब्जा देने का वादा किया था मगर आज तक आवंटियों को कब्जा तो नहीं ही मिला। गृह प्रवेश के पहले ही फ्लैट की दीवारों पर सीलन आने के साथ ही प्लास्टर टूटकर गिरने लगे। दरवाजे, खिड़की, सेनेटरी संबंधी सामग्री भी घटिया लगाई गई। अब आवंटियों को कब्जे के साथ ही घटिया निर्माण की समस्या से भी जूझना पड़ रहा। रामगढ़ झील के वेट लैंड को लेकर एनजीटी ने पांच सौ मीटर के भीतर निर्माण कार्य बंद करने का आदेश दे रखा है। अब एनजीटी से अनुमति मिलने के बाद ही आवंटियों को कब्जा मिल सकेगा।

कमिश्नर के निर्देश पर हो रही जांच

एक ब्लाक की जांच रिपोर्ट में निर्माण की गुणवत्ता बेहद खराब मिलने पर कमिश्नर लोहिया एन्क्लेव के निर्माण की निगरानी कर रहे जीडीए के एक एक्सईएन और एक सहायक अभियंता समेत सात अभियंताओं पर कार्रवाई के लिए शासन को पत्र लिख चुके हैं। गुणवत्ता खराब मिलने पर अब कमेटी को दूसरे सभी ब्लाकों के निर्माण कार्य भी जांचने के निर्देश दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री के हस्तक्षेप से सक्रिय हुए अफसर

लोहिया एन्क्लेव के आवंटियों ने गुणवत्ता को लेकर गम्भीर सवाल उठाए थे। वह कई बार मुख्यमंत्री से गुहार लगा चुके हैं। मुख्यमंत्री ने कमिश्नर को जांच कराने का जिम्मा सौंपते हुए दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया था। मामले में रेरा में भी शिकायत हुई। नगर विधायक डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल भी मामले को सदन में उठा चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Team to check quality sample for all blocks