DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूक्रेन की संदिग्ध सुंदरी का कई प्रांतों में फैला जाल

अवैध तरीके से भारत में घुसपैठ के मामले में पकड़ी गई यूक्रेन की सुंदरी डारिया मोलचन का यूपी ही नहीं कई प्रांतों में जाल फैला हुआ है। वह जेल में रहते हुए विभिन्न प्रांतों से अपने जमानतदारों की जुगाड़ कर रही है। यह अलग बात है कि सत्यापन के समय जमानतदार अपनी जमानत वापस ले ले रहे हैं। हालांकि जिस तरह से एक के बाद एक कर उसके जमानतदार सामने आ रहे हैं उससे 20 वर्षीय सुंदरी की पूरे भारत में नेटवर्क होने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है।

तफ्तीश
बिना पासपोर्ट-वीजा के गिरफ्तार डारिया जेल से ही जुटा रही है जमानतदार 
पहले बड़हलगंज फिर कानपुर और अब कोलकता के जमानतदार आए सामने
हर बार दस्तावेज देने के बाद सत्यापन के समय वापस लेते हैं जमानतदार

यूक्रेन मॉडल डारिया मोलचन को हाईकोर्ट से सशर्त जमानत मिली है। जमानत मिलने के बाद उसे जेल से बाहर आने के लिए दो जमानतदारों की जरुरत है। जेल में बैठे-बैठे उसने जमानतदारों की जुगाड़ शुरू की और सबसे पहले उसकी जमानत लेने बड़हलगंज क्षेत्र के रहने वाले दो सगे भाई सामने आए।
पर इन भाइयों के यहां जब बड़हलगंज पुलिस सत्यापन करने पहुंची तो उन्होंने डारिया की जमानत लेने के बाद आने वाली दिक्कतों को देखते हुए जमानत वापस ले लिया। यह दोनों भाई कभी यूक्रेन नहीं गए थे उन्हें लगा कि जेल से छूटने के बाद जब डारिया यूक्रेन चली जाएगी तो वे उसे कैसे वापस ले आ पाएंगे। उन्होंने  प्रार्थना पत्र देकर निजी कारणों से जमानत लेने से इन्कार कर दिया। डारिया मोलचन ने इसके बाद कानपुर के दो जमानतदार का जुगाड़ कर लिया। पुलिस ने जब उनका वेरीफिकेशन कराया तब उनकी भी कहानी बड़हलगंज वालो भाइयों की तरह निकली। उसके बाद डारिया ने कोलकता के दो जमानतदारों को तलाश लिया है। उन्होंने डारिया की जमानत लेने के लिए आवेदन किया है।

दो साल से जमानतदार तलाश रही है मैनफ्रैंड की पत्नी 
एक तरफ यूक्रेन की सुंदरी को एक के बाद एक कर पिछले एक महीने में छह जमानतदार मिल गए हैं वहीं दूसरी तरफ जर्मन नागरिक मैनफ्रेंड को दो साल में एक भी जमानतदार नहीं मिले। नशीला पदार्थ रखने के आरोप में मैनफ्रेंड को 31 अक्टूबर 2014 को पकड़ा गया था। उसकी पत्नी ने पैरवी कर किसी तरह से जमानत करा ली लेकिन जमानतदार नहीं मिल रहे हैं। वह गीता वाटिका में किराये का मकान लेकर जमानतदार की तलाश कर रही है। मैनफ्रेंड के केस में 03 जनवरी 2015 को चार्जशीट भी दाखिल हो गई है। 

यह है मामला :
यूक्रेन की 20 वर्षीय डारिया मोलचन को एसटीएफ ने दो अप्रैल को पार्क रोड से गिरफ्तार किया था। डारिया के पास से दो पासपोर्ट, मरिना अमन मेहता के नाम से बना फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस, दो मोबाइल व टैबलेट मिला। मोबाइल चेक करने पर उसमें दिल्ली के रहने वाले एक पुलिस अधिकारी की आपत्तिजनक तस्वीर मिली थी। 12 अप्रैल को जिला जज ने उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी। जिसके खिलाफ उसके अधिवक्ता ने हाईकोर्ट में अपील कर वहां से जमानत हासिल की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Suspicious girl of Ukraine spreads in many provinces