class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीए के छात्र का निलंबन वापस, एलएलबी का छात्र दोषमुक्त

बीए के छात्र का निलंबन वापस, एलएलबी का छात्र दोषमुक्त

डीडीयू कैंपस में मारपीट करने के आरोप में निलंबित बीए के छात्र का निलंबन सोमवार को वापस हो गया। इसके अलावा विधि विभाग में 17 नवंबर को छात्रा से अमर्यादित व्यवहार मामले में मूकदर्शक बन देखने वाले छात्र अभय सिंह को भी इस शर्त पर दोषमुक्त कर दिया कि भविष्य में वह ऐसी घटनाओं पर एक जिम्मेदार नागरिक के कर्तव्यों का पालन करेगा। इस घटना में निलंबित किए गए चार छात्रों के भविष्य के बारे में निर्णय लेने को जांच समिति गठित कर दी गई है। यह कमेटी एक सप्ताह में अपनी रिपोर्ट देगी।

13 नवंबर को एलएलबी के छात्र कृष्णा पांडेय पर कुछ बाहरी छात्रों ने कैंपस में हमला कर दिया था। इस मामले में कृष्णा ने बीए भाग के एक छात्र समेत 15-20 बाहरी युवकों पर कैंट थाने में केस दर्ज कराया। डीडीयू के मुख्य नियंता प्रो. गोपाल प्रसाद ने पीड़ित छात्र द्वारा किए गए पहचान के आधार पर साकेत नामक बीए के छात्र को निलंबित कर दिया था। दो दिन पहले कृष्णा उसे लेकर फिर प्रॉक्टर कार्यालय पहुंचा और लिखित दिया था कि उसने गलती से साकेत को आरोपी बताया था। घटना से उसका कोई लेना देना नहीं है। इस आधार पर प्रॉक्टर ने साकेत का निलंबन वापस ले लिया।

17 नवंबर को विधि विभाग में छात्रा के साथ अमर्यादित आचरण मामले में निलंबित किए गए चारों छात्रों के मामले में जांच कमेटी गठित कर दी गई है। कामर्स के प्रो. संजीत गुप्ता के संयोजन में गठित इस टीम में विधि के प्रो. अहमद नसीम व प्रो. सुनीता मुर्मू शामिल हैं। चीफ प्रॉक्टर ने बताया कि टीम से एक सप्ताह में विस्तृत जांच कर रिपोर्ट देने को कहा है। इसमें जल्दीबाजी इसलिए की जा रही है, क्यों कि दिसंबर में ही विधि की परीक्षाएं होने वाली हैं। बता दें कि विधि विभाग में घटी इस घटना में छात्रा की शिकायत पर एलएलबी भाग तीन के छात्र चंद्रकांत त्रिपाठी, संतोष कुमार वर्मा, अनुप कुमार सिंह तथा विनय कुमार शुक्ल को निलंबित किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Suspention of BA student rejected in DDU
नगर निकाय चुनाव: मतदान को लेकर अस्पताल अलर्ट, 40 बेड रिजर्वचुनाव प्रचार थमा, आज रवाना होंगी पोलिंग पार्टियां