ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश गोरखपुरसिर्फ विश्वविद्यालय में ही छात्र कर सकेंगे ऑनर्स विद रिसर्च

सिर्फ विश्वविद्यालय में ही छात्र कर सकेंगे ऑनर्स विद रिसर्च

डीडीयू 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7 7

सिर्फ विश्वविद्यालय में ही छात्र कर सकेंगे ऑनर्स विद रिसर्च
हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरSat, 15 Jun 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

गोरखपुर, निज संवाददाता।
दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में स्नातक एनईपी के प्रावधान के तहत कई बड़े बदलाव किए गए हैं। चार वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम में अंतिम वर्ष ऑनर्स होगा। ऑनर्स विद रिसर्च वही विद्यार्थी कर पाएंगे जिनका यूजी के शुरुआती तीन वर्षों के अंकों का जोड़कर 7.5 सीजीपीए या उससे अधिक होगा। ऑनर्स विद रिसर्च सिर्फ की पढ़ाई सिर्फ विश्वविद्यालय केंद्र पर ही होगी। विद्या परिषद ने इसे स्वीकृति दे दी है।

डीडीयू में सत्र 2024-25 से चार वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम शुरू किया जा रहा है। इसमें शुरुआती तीन वर्ष स्नातक होगा, जबकि चौथा वर्ष स्नातक ऑनर्स होगा। सिर्फ विश्वविद्यालय केंद्र पर ही संसाधनों से लैस रिसर्च सेंटर है, इसलिए निर्णय लिया गया है कि ऑनर्स विद रिसर्च की पढ़ाई सिर्फ विश्वविद्यालय केंद्र पर ही होगी। जो विद्यार्थी यूजी के तीन वर्षों में 7.5 सीजीपीए से कम पाएंगे, वे सिर्फ ऑनर्स के लिए अर्ह होंगे। विद्यार्थियों को चार वर्ष की पढ़ाई पूर करने के बाद ऑनर्स की डिग्री मिलेगी। विद्या परिषद में चर्चाओं के बाद एनईपी के प्रावधान के अनुरूप इसे नए सत्र से लागू करने की कवायद शुरू हो गई है।

चार वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम पूर्ण करने के बाद वे छात्र एक वर्ष में ही परास्नातक कर सकेंगे। जिन कॉलेजों में परास्नातक की पढ़ाई नहीं होती, वहां स्नातक तीन वर्ष का ही होगा। वहां के विद्यार्थियों को ऑनर्स की डिग्री के लिए विश्वविद्यालय से अनुमति लेनी पड़ेगी। ऐसे विद्यार्थी दो वर्षीय परास्नातक पाठ्यक्रम में भी प्रवेश के लिए अर्ह होंगे। यदि किसी कॉलेज में पीजी की पढ़ाई नहीं होती लेकिन वह वह संबंधित कोर्स से जुड़ी सुविधाएं उपलब्ध कराए तो सम्बंधित कॉलेज को इसकी अनुमति दी जा सकती है।

बॉक्स

मल्टीपल एंट्री और एग्जिट

चार वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम में मल्टीपल एंट्री और एग्जिट सुविधा भी दी गई है। यानी एक वर्ष बाद यदि कोई छात्र संस्थान बदलना चाहता है तो बदल सकता है। विश्वविद्यालय भी हर साल मेरिट लिस्ट जारी करेगा, ताकि इच्छुक विद्यार्थी लेटरल एंट्री से यहां प्रवेश ले सकें।

...

कोट

विश्वविद्यालय में संसाधनों से युक्त रिसर्च सेंटर है, इसलिए ऑनर्स विद रिसर्च की पढ़ाई सिर्फ यहीं होगी। कॉलेजों में ऑनर्स डिग्री दी जाएगी।

- प्रो. पूनम टंडन, कुलपति, डीडीयू

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।