DA Image
17 फरवरी, 2020|6:27|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों ने दिल से ग्रहण किया अपने पीएम दोस्त के मंत्र

छात्रों ने दिल से ग्रहण किया अपने पीएम दोस्त के मंत्र

सुबह 11 बजे शहर के विद्यालयों का माहौल रोज की तरह नहीं था। सभी कक्षाएं कुछ अलग थीं कारण कि बच्चों को परीक्षा के तनाव से निकलने का पाठ स्कूल के शिक्षक नहीं बल्कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पढ़ा रहे थे। शहर के अधिकांश स्कूलों में दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में हुये ‘परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम का सजीव प्रसारण हो रहा था।

11 बजे से पहले ही बच्चे स्कूल के सभागार में पंहुच गये थे। प्रधानमंत्री का कार्यक्रम शुरू होने से पहले थोड़ा शोर शराबा था लेकिन जैसे ही प्रधानमंत्री छात्रों से रू-ब-रू हुये और कहा कि, आपका यह दोस्त एक बार फिर आपके साथ है तो माहौल एकदम शांत हो गया। एडी गर्ल्स कॉलेज के सभागार के साथ पांच कक्षाओं में परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम का लाइव प्रसारण हुआ।

इसके साथ ही राजकीय जुबिली इंटर कॉलेज में कम्प्यूटर कक्ष एवं प्रधानाचार्य कक्ष में प्रसारण हुआ। इस दौरान संयुक्त शिक्षा निदेशक योगेन्द्र नाथ सिंह भी मौजूद रहे। महाराणा प्रताप इंटर कॉलेज के सभागार में बच्चों ने पीएम सर को सुना। इसके साथ ही सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में बच्चों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से परीक्षा के टिप्स लिए।

बुजुर्गों से मिलने वाली शिक्षा किताबों में नहीं

राजकीय जुबिली इंटर कॉलेज में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम में सुनने के दौरान हाईस्कूल के छात्र मौजूद थे। प्रधानमंत्री को सुनने के बाद वहां मौजूद अध्यापक जगत बिहारी मिश्र ने छात्रों से सवाल किया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सुन कर कैसा लगा। इस पर हाईस्कूल के छात्र विशाल सिंह, अनूप, शुभम पटेल ने कहा कि सर ये सच है कि हम अपने घर के बड़े बुजुर्गों के साथ समय व्यतीत नहीं करते हैं। पीएम सर को सुनने के बाद हम अपने नाना-नानी, दादा-दादी के साथ समय जरूर गुजारेंगे। प्रधानमंत्री ने अपने कार्यक्रम में कहा था कि बड़े बुजुर्गों के साथ बैठना चाहिए क्योंकि उनसे हमे जो शिक्षा मिलती है वो किताबों से नहीं मिल सकती।

मोबाइल पर पाठ्यक्रम से जुड़ी चीजें देखेंगे

जुबिली के ही शिक्षक राजेश चन्द्र गुप्ता ने बच्चों से पूछा कि अब मोबाइल पर क्या देखोगे ? छात्र आयुष खरवार, युगांत मिश्रा, सत्यपाल मौर्य, अमितेश, शैलेन्द्र व अन्य छात्रों ने कहा कि हम अब मोबाइल पर गेम से ज्यादा अपने पाठ्यक्रम से जुड़ी चीजों को देखेंगे और मोबाइल का सदुपयोग करेंगे। इसके साथ ही बच्चों ने अपना समय बर्बाद न करने का संकल्प लिया। बच्चों के साथ ही प्रधानाचार्य नन्द प्रसाद यादव, शिक्षक संतराम पांडे, दुर्गाप्रसाद यादव, डॉ. अखिलेन्द्र राय, अच्युतानन्द द्विवेदी, मो. आसिफ ने भी ‘परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम सुना।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: Students heartily received their PM friend s mantra