Send an alert work plan from now to rescue the flood - बोले गोरखपुर के डीएम: बाढ़ से बचाव के लिए अभी से हो जाएं अलर्ट, कार्य योजना भेजें DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बोले गोरखपुर के डीएम: बाढ़ से बचाव के लिए अभी से हो जाएं अलर्ट, कार्य योजना भेजें

बाढ़ से बचाव और राहत आपूर्ति के लिए सभी विभाग अभी से तैयारी शुरू कर दें। बाढ़ चैकी, उस पर तैनात कर्मचारी, संसाधन की व्यवस्था अभी से सुनिश्चित कर लें। साथ ही कार्ययोजना बनाकर भेज दें। 
यह निर्देश जिलाधिकारी के. विजयेन्द्र पांडियन ने दिए। श्री पाण्डियन कलेक्ट्रेट सभागार में बाढ़ स्टीयरिंग कमेटी और जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी तहसीलें आपस में विभागीय समन्वय स्थापित कर काम करें।उन्होंने कहा कि बाढ़ चौकी की जगह चिन्हित कर लें। उस पर ड्यिूटी के लिए राजस्व, पुलिस, चिकित्सा, पशुपालन और अन्य विभाग के कर्मचारी की तैनाती कर दे। बाढ़ के दौरान प्लास्टिक शीट, खाद्यान्न, भूसा और दवाइयों का अभी से टेंडर कर दें ताकि समय पर काम आ सके।
बैठक मे सीडीओ अनुज सिंह,सीईओ गीडा हर्षिता माथुर,एसपी ज्ञान प्रकाश चतुर्वेदी, सिटी मजिस्ट्रेट विवेक श्रीवास्तव,सभी उपजिलाधिकारी,एनडीआरएफ के कमान्डेन्ट के एल वर्मा और विभागीय अधिकारी गण उपस्थित रहे।  
 बनाएं बचाव कार्यो में इस्तेमाल सामानों की सूची
उन्होंने कहा कि प्रत्येक तहसील क्षेत्र की नावों नाविकों की सूची तैयार रखें। नावें बड़ी हो जिनसे राहत समाग्री वितरित की जा सके। यदि आवश्यक हो तो नावो की मरम्मत भी करा लें। सुनिश्चित करे कि पिछली बाढ़ में सभी गांवो का किराया एवं मजदूरी का भुगतान हो गया हो।जिलाधिकारी ने बाढ़ के तीनो खण्ड की परियोजनाओं की समीक्षा की। उन्होंने पाया कि 7 परियोजनाए स्टेयरिंग कमेटी में और 25 परियोजनाएं मुख्य अभियंता स्तर पर लम्बित है।
फाटक एवं रेगुलेटर की मरम्मत कराएं
 जिलाधिकारी ने कहा कि इस दौरान सभी रेगूलेटर और उसके फाटक की मरम्मत करा लें। हावर्ट बाध पर 9 रेगूलेटर है अन्य बन्धो पर कुल 35 रेगूलेटर हैं। श्री पाण्डियन ने इन सभी के बारे में रिपोर्ट तलब किया है। बाढ़ खण्ड ने बताया कि पिछले बाढ़ में बचाव के कार्य कराए गए थे जिनका 16 करोड़ रुपये बकाया है। उन्होंने बाढ़ खण्ड के अभियंताओ को निर्देश दिया कि बाढ़ के बचाव के लिए आवश्यक समाग्री जियोबैंग, बम्बू कैरट, बोल्डर, बालू की बोरियां तैयार रखें। इसका कार्य करने वाले सप्लायर तथा ठेकेदार को तैयार रखें ताकि आवश्यकता पड़ने पर कार्य कराया जा सके।
तीन दिन में सौंपे कार्ययोजना
जिलाधिकारी ने रेलवे, एयरफोर्स, एनडीआरएफ, जीआरडी, गीडा, विकास प्राधिकरण, पीडब्लूडी, आदि विभागीय अधिकारियो से बाढ़ से बचाव एवं बाढ़ के दौरान राहत कार्यों के के बारे में चर्चा की और योजना तैयार करने को कहा। इस दौरान सामने आया कि जिला आपदा प्रंबधन योजना के तहत बाढ खण्ड-2, एआरटीओं,स्वास्थ्य,पंचायती राज,नलकूप, जलनिगम, पीडब्लूडी के तीनों खण्ड और तहसीलों ने अपनी कार्ययोजना नही दी है। इस पर डीएम ने तीन दिन के अंदर रिपोर्ट तैयार कर देने को कहा है। 
जल्द वितरित होगी क्षतिपूर्ती
जिला आपदा प्रबंधक गौतम गुप्ता ने वर्ष 2017 मे आयी बाढ, उससे नुकसान,राहत कार्य की जानकारी दिया। उन्होने बताया कि 2017 के बाढ के दौरान फसल नुकसान की क्षर्तिपूति का धन मिल गया है। इसे जल्द ही किसानो के खाते मे भेज दिया जाएगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Send an alert work plan from now to rescue the flood