ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश गोरखपुरबारिश गेहूं के लिए फायदेमंद पर हवा से गिरी अगेती फसल

बारिश गेहूं के लिए फायदेमंद पर हवा से गिरी अगेती फसल

सचित्र गोरखपुर। मुख्य संवाददाता मंगलवार की रात बूंदाबांदी तो गेहूं के लिए...

बारिश गेहूं के लिए फायदेमंद पर हवा से गिरी अगेती फसल
हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरThu, 22 Feb 2024 11:00 AM
ऐप पर पढ़ें

सचित्र
गोरखपुर। मुख्य संवाददाता

मंगलवार की रात बूंदाबांदी तो गेहूं के लिए फायदेमंद रही लेकिन इस दौरान चली तेज हवा के चलते अगेती फसल खेत में गिर गई। इससे उपज प्रभावित हो सकती है।

गोरखपुर में 1.68 लाख हेक्टेयर में गेहूं एवं 7000 हेक्टेयर में सरसों की फसल बोई गई है। बारिश-हवा से गगहा क्षेत्र के किसानों ने अरहर एवं सरसों की सफल के फूल झरने की शिकायत की। वहीं खोराबार के गौरी मंगलपुर में किसान पप्पू चौधरी ने बताया कि गेहूं की कुछ फसल खेत में गिर गई। प्रगतिशील किसान रविंद्र राय ने बताया कि कुछ फसल गिरी है लेकिन बाद में खड़ी हो जाएगी।

उधर, कैम्पियरगंज के किसान रामजनम सिंह एवं योगेंद्र सिंह का कहना है कि अमृत वर्षा है। कुछ ऐसा ही चौरीचौरा, खजनी एवं सरदारनगर के किसान भी सोचते हैं। किसान, रामचरित, रामधन, घनश्याम ने बताया कि जिनके गेहूं की फसल में बालिया निकल आई, वे ही गिरी हैं। हालांकि यह फसल बाद में उठ जाएगी। गोला, सहजनवा एवं बांसगांव के किसानों का कहना है कि सरसों के फूल को क्षति पहुंची है।

कृषि विज्ञान केंद्र बेलीपार के अध्यक्ष वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. सतीश कुमार तोमर ने बताया कि जिन किसानों की गेहूं की फसल में बालिया निकल आई थीं, उनकी 5 से 10 फीसदी फसल खेत में गिर गई है। उम्मीद है कि वह पुन: उठ जाएगी। सरसों की फसल को ज्यादा क्षति नहीं है क्योंकि बारिश काफी कम हुई। किसानों को माहो के हमले से अपनी फसलों को बचाना होगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें