अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रसंघ चुनाव को लेकर गोरखपुर विवि में रार, पूर्व सीएम अखिलेश ने किया ट्वीट

छात्रसंघ चुनाव को लेकर गोरखपुर विवि में रार, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश ने किया ये ट्वीट

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव को स्थगित किए जाने को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और समाजवादी छात्र सभा के बीच रार छिड़ गई है। विश्वविद्यालय बंद होने के बावजूद सुबह से दोनों संगठनों के कार्यकर्ता विवि प्रशासनिक भवन पर धरना दे रहे हैं। इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक ट्वीट के जरिए छात्रसंघ चुनाव स्थगन को लोकसभा उपचुनाव में भाजपा की हार से जोड़ते हुए टिप्पणी दी है कि, ‘लग रहा है कि कुछ लोगों को उपचुनाव की तरह इस चुनाव में भी हार का डर सता रहा है। इसके साथ ही उन्होंने छात्रसंघ चुनाव स्थगन को छात्रों के लोकतांत्रिक हक का हनन भी बता दिया है।

मंगलवार को सुबह से दोपहर तक विश्वविद्यालय परिसर छात्रसंघ चुनाव के नाम पर अराजकता की भेंट चढ़ा रहा। लॉ फेकेल्टी के शिक्षकों के साथ दुर्व्यवहार की घटना के बाद मुखर हुए शिक्षक संघ ने चुनाव में सहयोग से इनकार किया तो शाम को कुलपति ने चुनाव संचालन समिति की बैठक बुलाकर सदस्यों से पूछा कि छात्रसंघ चुनाव कराएं या न कराएं? बताते हैं कि घंटों चले मंथन के बाद समिति ने सुझाव दिया कि अराजकता भरे मौजूदा माहौल में छात्रसंघ चुनाव नहीं कराया जा सकता। इसके बाद कुलपति ने छात्रसंघ चुनाव स्थगन के साथ विवि को दो दिन के लिए बंद कर दिया।

लेकिन इस फैसले के बाहर आने के बाद चुनाव में सक्रिय सभी छात्रसंगठन विरोध जताने लगे। मंगलवार शाम अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और समाजवादी छात्रसभा सहित सभी छात्रसंगठनों ने कुलपति पर अराजकता का बहाना बनाकर चुनाव स्थगित करने का आरोप लगाया। मजे की बात है कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने विवि प्रशासन पर समाजवादी छात्रसभा के प्रत्याशियों के पक्ष में चुनाव स्थगन का आरोप लगाया तो समाजवादी छात्रसभा ने अभाविप प्रत्याशियों के पक्ष में।

राजनीतिक दलों का अखाड़ा बन गया गोरखपुर विवि

छात्रसंघ चुनाव के नाम पर गोरखपुर विवि पिछले कुछ दिनों राजनीतिक दलों का अखाड़ा बन गया है। छात्रों के इस चुनाव में बड़े-बड़े राजनीतिक दलों के रुचि लेने से माहौल बिगड़ गया है। मंगलवार को बात लॉ फेकेल्टी में मारपीट और शिक्षकों से दुर्व्यवहार तक जा पहुंची। छात्रों के दो गुटों में जमकर मारपीट हुई। चुनाव स्थगन के बाद भी राजनीतिक दलों के बीच सियासत कम नहीं हुई है। अब हर कोई इस मुद्दे को लेकर दूसरे पर वैसे ही आरोप लगा रहा है जैसे कि उस पर लग रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Protest in Gorakhpur University on Student Union Election