DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्‍यपाल रामनाईक ने किया गोरखपुर महोत्‍सव का शुभारंभ, कुंभ आने का दिया न्‍यौता -VIDEO

राज्‍यपाल रामनाईक ने तीन दिवसीय गोरखपुर महोत्‍सव का शुभारंभ किया। उन्‍होंने अपने सम्‍बो‍धन में महोत्‍सव की तैयारियों की सराहना की।गोरखपुर केे लोगों को कुंंभ के लिए प्रयागराज आने का न्‍यौता भी द‍िया। इसके साथ ही महोत्‍सव में नृत्‍य-संगीत का सिलसिला शुरू हो गया है। पहले दिन शुक्रवार को वाराणसी के विशाल कृष्‍ण का कथक नृत्‍य, नई दिल्‍ली से आई रानी खानम शाम सूफी कथक नृत्‍य प्रस्‍तुत करेंगी। रात आठ बजे मुंबई से आए बालीवुड फेम सुखविंदर सिंह अपने गीतों से महोत्‍सव में समा बांधेंगे।

खूबसूरत कलाकृतियों से सजाईं दीवारें 
11 जनवरी से 13 जनवरी तक होने वाले गोरखपुर महोत्सव की शहर में धूम मची है। वे दीवारें जिन पर कभी पान की पीक के छींटे दिखाई देते थे वहां महोत्सव के बहाने खूबसूरत कलाकृतियां दिखने लगी हैं। इनमें से कई कलाकृतियों में भ्रष्टाचार, महिला उत्पीड़न, भ्रूण हत्या सहित तमाम सामाजिक बुराइयों पर हमला किया गया है।

विश्वविद्यालय और कई स्कूलों के छात्र-छात्राओं ने मिलकर शहर की दीवारों को इन कलाकृतियों से गुलजार कर दिया है। दो टीमें बनाई गईं। पहली टीम प्राइमरी बच्चों की, जिसने डीआईओएस ऑफिस के आसपास की दीवारों को रंगा। दूसरी, 12 स्कूली बच्चों की जिसने सेंट जोसेफ, कार्मल से लेकर करीब डेढ़ किलोमीटर की दीवारों पर खूबसूरत पेंटिंग्स उकेर दीं। विश्वविद्यालय के सामने की दीवार पर भी हर तरफ खूबसूरत पेंटिंग दिखाई दे रही है।

गोरखपुर महोत्सव में कला, साहित्य और खेलकूद सहित मनोरंजन के विभिन्न आयामों को मंच मिल रहा है। बुधवार को स्टेडियम में खेल प्रतियोगिताओं का शुभारंभ हुआ। पिछले एक पखवारे से चल रही तैयारियों से साफ है कि नृत्य-संगीत से लेकर पैराग्लाइडिंग और शूटिंग तक महोत्सव में इस बार कई रंग देखने को मिलेंगे। महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए महोत्सव में सबसे आगे उनकी सीटें आरक्षित रखने के साथ ही कई अन्य कार्यक्रम तय किए हैं। इनमें से एक, मिनट भर में ज्यादा से ज्यादागोलगप्पे खाकर पुरस्कार जिताने वाली प्रतियोगिता का सबको बेसब्री से इंतजार है।

महोत्सव में बालीवुड तड़का भी भरपूर लगाया गया है। सुखविंदर सिंह, मोहित चौहान बॉलीवुड नाइट, शारदा सिन्हा भोजपुरी नाइट तो सुरेश वाडेकर भजन की महफिल सजाएंगे। पिछले साल की तुलना में इस बार महोत्सव में 68 की जगह 98 स्थानीय लोक कलाकारों को मंच साझा करने का मौका मिल रहा है। शुक्रवार सुबह बच्चों को बाल फिल्में दिखाई गईं। इसके साथ ही विवेकानंद और गुरु गोरक्षनाथ पर चित्र प्रदर्शनी भी महोत्सव का खास आकर्षण हैं। महोत्सव के दौरान किसी प्रकार की गड़बड़ी न हो इसलिए यहां एक पुलिस थाना भी बनाया गया है। 

 

महोत्सव में व्यवसायिक स्टॉल, फूड स्टॉल, सरस मेला, पुस्तक मेला, गेम जोन भी बनाए गए हैं। इसके साथ ही शिल्प मेले में विभिन्न प्रांतों की कला की झलक देखने को मिलेगी। वहां करीब 100 स्टॉल लग रहे हैं जिसमें 60 से 70 स्टॉल दूसरे प्रांतों के शिल्पियों के लिए हैं।

राजस्थान, पंजाब, गुजरात, दिल्ली, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, बिहार, झारखंड और हरियाणा आदि प्रांतों की कला, शिल्प और व्यंजनों से महोत्सव को यादगार बनाने की जी-तोड़ कोशिश जारी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Prepration for Gorakhpur Mahotsav are in full Swing in Gorakhpur