ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश गोरखपुरमलौनी बांध से हटाए जाएंगे हादसे को न्यौता देते पोल

मलौनी बांध से हटाए जाएंगे हादसे को न्यौता देते पोल

गोरखपुर। मुख्य संवाददाता आखिरकार चार साल गोरखपुर विकास प्राधिकरण ने महेवा-बड़गो मलौनी बांध पर...

मलौनी बांध से हटाए जाएंगे हादसे को न्यौता देते पोल
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरThu, 29 Sep 2022 04:01 PM
ऐप पर पढ़ें

गोरखपुर। मुख्य संवाददाता

आखिरकार चार साल गोरखपुर विकास प्राधिकरण ने महेवा-बड़गो मलौनी बांध पर हादसे को न्यौता देते बिजली के पोल की सुध ले ही ली है। 05 लाख रुपये से अधिक की धनराशि खर्च कर मलौनी बांध पर महेवा से बड़गो तक सड़क के बीच में खड़े बिजली के पोल को हटाया जाएगा।

महेवा से तरकुलानी तक 31 किलोमीटर मलौनी बांध को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने प्रथम कार्यकाल में ही सृदृढ़ करने के साथ उसे दो लेन का बनाने का निर्णय लिया। यह बांध दो लेन की सड़क के रुप में चौड़ा हो गया लेकिन जीडीए के अधिकार क्षेत्र में ही महेवा से बडगो के बीच 15 के करीब बिजली के पोल जानलेवा बने हुए हैं। नौसड़ हिन्दुस्तान संवाद के मुताबिक जब से सड़क चौड़ी हुई तकरीबन 12 की संख्या में छोटे मोटे सड़क हादसे रिपोर्ट किए गए। जब से सड़क चौड़ी हुई तभी से इसके लिए आवाज उठती रही लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

फिलहाल नवागत जीडीए उपाध्यक्ष महेंद्र सिंह तंवर ने इस समस्या का संज्ञान लेते हुए तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। प्रभारी मुख्य अभियंता किशन सिंह ने बताया कि जीडीए उपाध्यक्ष के निर्देश पर इलेक्ट्रिक विंग से 5 टेंडर के लिए प्रोजेक्ट तैयार कराया गया है। तकरीबन 05 लाख रुपये खर्च का अनुमान है। उन्होंने उम्मीद जताई कि 02 माह में यह कार्य पूर्ण करा लिया जाएगा।

न रिफ्लेक्टर न ही स्ट्रीट लाईट

इस सड़क से पथरा, महुई सुघरपुर, रानीबाग, बड़गो, डोमवा ढाला, लहसड़ी, मिर्जापुर, लालपुर टीकर, डागीपार समेत दो दर्जन ग्राम एवं कॉलोनियों के लोगों का आवागमन होता है। रात को सड़क पर स्ट्रीट लाईट के अभाव में अंधेरा रहता है। ऐसे में थोड़ी सी असावधानी हादसे का सबब बन जाती है। बडगो के शिवम, शिक्षक राममनोहर त्रिपाठी, सौरभ, अधिवक्ता भूपेंद्र पाण्डेय, आनंद सिंह, विष्णु कहते हैं कि सर्वाधिक दिक्कत साइकिल और दो पहिया चालकों को होती है। बड़े वाहन को साइड देने के लिए जैसे सड़क के मध्य से किनारे होते हैं, हादसे की संभावना बलवती हो जाती है। इन पोल पर कोई रिफ्लेक्टर भी नहीं लगा है। फिलहाल लोगों को उम्मीद है कि जीडीए वीसी की पहल से पोल हटे तो आवागमन सुगम होगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
epaper