DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी दुकान से बेची जा रही थी जहरीली शराब, मुनीब गिरफ्तार

गोरखपुर के पिपराइच कस्बे में सरकारी विदेश मदिरा की दुकान से ब्रांडेड कंपनी के शराब के नाम पर जहर बेचा जा रहा था। पिपराइच पुलिस और आबकारी विभाग की संयुक्त टीम ने सोमवार को दुकान पर छापेमारी कर विभिन्न शराब के ब्रांड के 299 ढक्कन, अपमिश्रित अद्धा और पौवा के साथ 184 अवैध क्यूआर कोड आदि सामान बरामद हुआ। पुलिस टीम ने दुकान पर तैनात मुनीब को गिरफ्तार कर दुकान के मालिक की तलाश शुरू कर दी। 

एसपी दक्षिणी विपुल कुमार श्रीवास्तव एवं चौरीचौरा सीओ सुमित शुक्ला ने पुलिस लाइन सभागार में पत्रकार वार्ता कर पुलिस की सफलता का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि श्रीमती सत्यवती देवी का विदेशी मदिरा की दुकान पिपराइच नंबर 1 का ठेका है। सोमवार को पिपराइच पुलिस और आबकारी टीम संयुक्त चेकिंग करने विदेशी मदिरा की दुकान पर पहुंची। पुलिस को देख कर दुकान में मौजूद मुनीब भागने लगा। पुलिस कर्मियों ने पीछा कर उसे पकड़ लिया। पूछताछ में उसकी पहचान कुशीनगर जिले के अहिरौली क्षेत्र के मकडीहा निवासी राजेश के रूप में हुई। दुकान की तलाशी लेने पर विभिन्न ब्राण्डेय शराब की कंपनी के नाम पर अपमिश्रित अद्धा और पौवा आदि सामान बरामद किया। पुलिस टीम मालिकिन और धंधे से जुड़े अन्य कर्मचारियों की तलाश शुरू कर दी है। 

छापेमारी में यह लगा पुलिस के हाथ
सरकारी ठेके की दुकान की तलाशी लेने पर दुकान ज्यादा बिकने वाले ब्रांड मैकडावेल, रायल स्टैग, इम्पीरियल ब्लू आदि के 24 अद्धे और 52 पौवे में अपमिश्रित शराब बरामद हुई। जिसकी अल्कोहोलोमीटर से जांच करने पर वह मानक के काफी विपरित मिला। इसके अलावा काली पालीथिन में विभिन्न ब्रांड के 299 ढक्कन, 184 अवैध क्यूआर कोड, एक चाकू, एक सूजा, 20 लीटर खाली गैलन, पांच-पांच लीटर की दो खाली प्लास्टिक की पिपिया मिली। जिसको खोलकर सूंघने पर स्प्रिट जैसी गंध आ रही थी।  

नकली शराब बनाकर बेचने पर अलग से मिलता था रकम
मुनीब राजेश ने बताया कि मालकिन सत्यवती के आदेश पर नकली शराब बनाकर बेचा जाता था। पिपराइच क्षेत्र के सिधावल निवासी अजय और जोगिंदर की मदद से वह नकली शराब तैयार करते थे। पहले वह दुकान से नकली शराब खपाते थे। इसके बदले में उनको मालकिन से अलग रकम मिलती थी। मुनीब ने बताया कि उसे छह हजार रुपये प्रति माह वेतन मिलता है। लेकिन नकली शराब बेचने पर उनको प्रति दिन छह से सात सौ रुपये अलग से मिलता था।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Poisonous liquor was sold from Government shop in Gorakhpur Employee caught