DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO: सावन का पहला सोमवार : दुर्लभ संयोग में भक्तों ने किया भोलेनाथ का जलाभिषेक

पावन सावन महीने के पहले सोमवार को महराजगंज के शिवालयों में भक्तों की भीड़ उमड़ी। पंचमुखी इटहिया शिव मंदिर के साथ ही दुग्धेश्वर नाथ, कांच्छेश्वर नाथ व बउरहवा बाबा मंदिर में भोर से ही भक्तों की कतार लग गई। सभी ने बेलपत्र, गंगा जल और शहद के साथ भगवान शंकर का जलाभिषेक किया। पं. दयाशंकर शुक्ल के अनुसार इस बार सावन के दो सोमवार को नागपंचमी का योग बन रहा है। 22 जुलाई के बाद सावन के तीसरे सोमवार पांच अगस्त को यह योग है। इस दिन भगवान शिव के जलाभिषेक का विशेष महत्व है। करीब 125 साल में बने सावन के सोमवार के दिन नागपंचमी के दुर्लभ संयोग में भक्तों की मुराद भोलेनाथ पूरी करेंगे।  

सावन के पहले सोमवार को लेकर पंचमुखी शिव मंदिर इटहिया में जलाभिषेक के लिए प्रशासन ने व्यवस्था चाक चौबंद की। सीओ रणविजय सिंह व तहसीलदार राहुल देव भट्ट ने पूरी व्यवस्था पर नजर रखी। पूरे मेला परिसर में चप्पे-चप्पे पर पुलिस व पीएसी के जवान मुस्तैद रहे। महिलाओं की सुरक्षा के लिए महिला सिपाही व महिला एसआई की भी ड्यूटी लगाई गई।  

 निचलौल के सीओ रणविजय सिंह ने बताया कि मेले में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पांच थाना प्रभारी, 17 एसआई, दो महिला एसआई, 61 हेड कांस्टेबिल, 70 कांस्टेबिल, 23 महिला कांस्टेबिल, चार ट्रैफिक पुलिस, डेढ़ सेक्शन पीएसी व फायर सर्विस की यूनिट के जवान मुस्तैद हैं। तड़के दो बजे से ही पूरी फोर्स अपने ड्यूटी स्थल पर तैनात हो गई।   

तहसीलदार राहुल देव भट्ट ने बताया कि पहले सोमवार को 35 लेखपालों की ड्यूटी लगाई गई। उनके जिम्मे मंदिर में आने वाले चढ़ावा रकम की रशीद काटना व हिसाब करना रहा। परिसर के अंदर साफ सफाई की व्यवस्था की देखरेख भी करते रहे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pilgrims did Jalabhishek at Shivalayas in rare muhurt in Mahrajganj