DA Image
23 मई, 2020|9:53|IST

अगली स्टोरी

गोरखपुर में उतरे देवरिया जा रही ट्रेन के यात्री, बिना जांच के आ गए बाहर 

प्लेटफॉर्म चार पर सुबह आई थी दिल्ली से ट्रेन, एफओबी से बाहर निकल गए श्रमिक बिहार की ओर जाने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से श्रमिक गोरखपुर स्टेशन पर ही उतर गए। यहां उतरने के बाद पुल से बिना जांच कराए ही बाहर निकल आए। श्रमिक स्पेशल ट्रेन शनिवार की सुबह करीब साढ़े नौ बजे गोरखपुर जंक्शन पर पहुंची। यहां ट्रेन में स्टॉफ बदले जाने थे और पानी भरा गया। 

ट्रेन से बीच रास्ते में किसी श्रमिक को उतरने की अनुमति नहीं है लेकिन ट्रेन से बहुत सारे लोग उतर गए। उन्हें किसी ने रोका भी नहीं। संभवत: इन यात्रियों को देवरिया की जगह कहीं और जाना था। प्लेटफॉर्म से यात्री बड़े आराम से सामान लेकर फुट ओवरब्रिज के रास्ते बाहर निकल गए। इन यात्रियों ने न तो ब्यौरा दर्ज कराया और न ही थर्मल स्कीनिंग कराई। दो दिन पहले भी कुछ यात्री ट्रेन से उतरकर एफओबी के रास्ते बाहर चले गए थे जबकि एक दिन जीआरपी ने उन्हें कोच में भेजा था। सीपीआरओ पंकज कुमार सिंह ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में नहीं था। इसे चेक कराया जाएगा। यात्रियों को गंतव्य स्टेशन पर ही उतरना है और थर्मल स्कीनिंग उन्हें जरूर कराना है।

10 श्रमिक स्पेशल से आए 11000 प्रवासी
विभिन्न राज्यों में फंसे श्रमिकों को लेकर शनिवार को 10 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें पहुंची। इन ट्रेनों से 11000 प्रवासी श्रमिक और उनके परिवार वाले गोरखपुर पहुंचे। थर्मल स्क्रीनिंग के बाद सभी को रोडवेज की बसों से सुरक्षित घर पहुंचा दिया गया। रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक, दो और नौ पर श्रमिक ट्रेनें लाई जा रही हैं। इन प्लेटफार्मों से ही इन्हें बाहर निकालने की व्यवस्था की गई है। जिला प्रशासन की ओर से यात्रियों को लंच पैकेट और पानी की बोतलें मुहैया कराया गया। यहां आए यात्रियों को स्क्रीनिंग के बाद 25 से 30 की संख्या में बसों में बैठाकर आगे के लिए रवाना किया गया। यात्रियों का मार्गदर्शन करने के लिए कौवाबाग चौकी इंचार्ज राजाराम द्विवेदी, असुरन चौकी इंचार्ज आनन्द मिश्रा, बबलू, टीटीई रवि पाण्डेय, टीएन पाण्डेय, शार्दुल, जेपी सिंह, मोहन पाण्डेय, संजय कश्यम, रंजीत प्रजापति और अफजल अहमद प्रमुख रूप से शामिल थे। ट्रेनें गाजियाबाद, बोरीबली, चेन्नई, ललितपुर, आनन्द विहार से आईं थीं।

जिला प्रशासन और जीआरपी ने सभी यात्रियों को करवाया भोजन
गोरखपुर आए सभी यात्रियों के लिए जिला प्रशासन और जीआरपी ने लंच पैकेट वितरित कराया। इसके साथ ही एसपी जीआरपी पुष्पाजंलि के निर्देश पर मक्के के भूजे का पैकेट, एक छोटा पैकेट बिस्किट और एक साबुन भी दिया गया। व्यवस्था की देखरेख में रेलवे और प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा आरपीएफ, स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सक सहित सुरक्षा बल व रेलवे कर्मचारी मौजूद थे। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:passengers came out from train going to deoria came out without medical investigation