DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पड़ताल: बैंको की सुरक्षा को लेकर अधिकारी और गार्ड बेपरवाह

बैंकों में और आस-पास आए दिन कोई न कोई घटना होती रहती है। बैंक में ही ग्राहकों के रुपये उड़ा देते हैं या कमजोर और बुजुर्ग ग्राहक को अपना निशाना बना के लिए चुन लेते हैं। रुपये लेकर निकलने पर उन्हें सूनशान स्थान पर लूट लेते हैँ। बैंकों में चोरी की घटनाएं भी हुई हैं और कई स्थानों पर कोशिशें भी हुई हैं। इन सबके बावजूद बैंकों की सुरक्षा के पुख्ता इंतजामात नहीं किए गए हैं। कहीं सुरक्षाकर्मी हैं तो बेरवाह हैं और कहीं निजी सुरक्षाकर्मियों के भरोसे व्यवस्था चलाई जा रही है। ’हिन्दुस्तान टीम’ ने बुधवार को बैंकों की पड़ताल तो यह चौकाने वाला नजारा सामने आया है।


दृश्य-1
समय : दोपहर बाद 1.20 बजे
स्थान : पीएनबी
बैंक परिसर में स्थित दो एटीएम पर निजी सुरक्षा कर्मी तैनात थे। एक सुरक्षा कर्मी की उम्र 70 वर्ष करीब थी। बैंक में कोई सुरक्षा कर्मी मौजूद नहीं था। बैंक के एक जिम्मेदार ने बताया कि सुरक्षा कर्मी की ड्यूटी नहीं लगती है। बैंक में लगा सीसी कैमरा और अलार्म मदद देते।

दृश्य-2
समय : दोपहर बाद 1.30 बजे
स्थान : एसबीआई मेन ब्रांच
यहां मुख्य द्वार पर कोई सुरक्षा कर्मी नहीं मिला। अंदर एक सुरक्षा कर्मी कुर्सी पर बैठा मिला। वह आने-जाने वाले लोगों को लेकर बेपरवाह था। लोग बेधड़क आ-जा रहे थे। सुरक्षा कर्मी ने बताया कि उनकी ड्यूटी केवल दिन के लिए होती है। रात पर कोई सुरक्षा कर्मी बैंक पर नहीं रहता है। 

दृश्य-3
समय : दोपहर बाद 1.40 बजे
स्थान : आईसीआईसीआई बैंक
यहां भी बैंक के अंदर से लेकर बाहर तक ग्राहकों की भीड़ तो लगी थी। बैंक के एक अंदर एक निजी सिक्योरिटी कंपनी का एक गार्ड मिला। वह बैंक के अंदर ग्राहकों की मदद में लगा था। बाहर से लेकर अंदर तक सुरक्षा व्यवस्था कुछ भी नहीं थी। 

घटना से भी नहीं ली सबक
बैंक में सेंध कटने के बाद भी स्थिति जस की तस
खजनी क्षेत्र के इलाहाबाद बैंक हरनही शाखा में दो वर्ष पहले सेंध कटी थी। इसके बाद भी बैंक में सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए गए। बैंक के मैनेजर अजीत मिश्रा ने बताया कि दीवार मजबूत करा दी गई है। बगल में स्थित चौकी से पुलिस आती-जाती रहती है। वहीं इलाहाबाद बैंक खजनी शाखा के मैनेजर कृष्णापति त्रिपाठी ने बताया कि दिन में कभी-कभार पुलिस व होमगार्ड के जवान आते रहते हैं। पंजाब नेशनल बैंक, पुर्वांचल बैंक के मैनेजर ने बताया सीसी कैमरा व सायरन लगा है। 

रात में पुलिस पिकेट की होती है तैनाती
बेलघाट कस्बे में 3 बैंकों की शाखाएं हैं। बैंकों में अलार्म और सीसी कैमरे लगे हैं। रात में बैंक के पास पुलिस पिकेट लगती है। एसबीआई बेलघाट शाखा के प्रबंधक सुनील यादव ने बताया कि दिन में गार्ड रहता है। सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। सायरन अलार्म सिस्टम लगा है। वहीं पूर्वांचल ग्रामीण बैंक शाखा बेलघाट में लगभग 7 वर्ष पूर्व जो दूसरे भवन में संचालित हो रहा था, चोरों ने काटा था लेकिन अंदर प्रवेश नहीं कर पाए थे  उस मामले में कोई मुकदमा नहीं दर्ज हुआ था ! प्रबंधक राघवेंद्र मणि त्रिपाठी ने बताया कि यह शाखा  पूर्व में दूसरे बिल्डिंग में संचालित हो रही थी। अब यह शाखा दूसरे भवन में शिफ्ट हो गई है।  2007 में इस बैंक में चोरी हुआ था जिसका पुलिस ने खुलासा करते हुए एक अभियुक्त को जेल भी भेजा था उसी समय यह बैंक वहां से स्थानांतरित होकर के थाने से 20 मीटर की दूरी पर दूसरे तल पर स्थित एक मकान में संचालित हो रहा है। प्रबंधक अरविंद दुबे  ने कहा कि यहां पर सीसी कैमरा और अलार्म सिस्टम नहीं लगा है।

चौरीचौरा में सभी बैंकों में लगा है सीसी कैमरा
चौरीचौरा क्षेत्र के सभी बैंको में सीसीटीवी कैमरा लगा है। खतरे का सायरन भी लगा है। भोपा बाजार के एसबीआई, पीएनबी, सेंट्रल बैंक इंडिया में पुलिसकर्मी ड्यूटी लगी थी। इसके अलावा एसबीआई सरदारनगर व पूर्वांचल बैंक में एसआई आशीष कुमार पाण्डेय ने फ़ोर्स के साथ निरीक्षण किया और गैर जरुरी लोगो को बैंक से बाहर कराया। एसबीआई सरदारनगर में अकेले बैंक के सुरक्षा गार्ड धनंजय सिंह जमे हुए थे। पीएनबी के शाखा प्रबंधक एमपी सिंह, एसबीआई चौरीचौरा के धर्मेन्द्र सिंह, सरदारनगर के आरपी तिवारी ने कहा कि बैंक के भीतर सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम है। 

बड़हलगंज में हैं 13 बैंक
बड़हलगंज में कोतवाली से 500 मीटर के दायरे में 13 बैंक है। एसबीआई, पीएनबी, ओरियंटल बैंक आफ कामर्स, बीओबी, एचडीएफसी, यूनियन, केनरा, भारत ओवरसीज आदि बैंक सीसीटीवी व एलार्म से लैस है। पुलिस की पेट्रोलिंग भी एक से दो बार चलती हैं। कोतवाल राजेश मिश्र ने बताया कि बैंकों की सुरक्षा के लिए पुलिस सतर्क हैं। सुरक्षा की दृष्टि से रात्रि में पटना चौराहा, अम्बेडकर चौराहे पर पुलिस पिकेट तैनात रहती हैं।

पिपराइच में बैंकों की सुरक्षा भगवान भरोसे
 एसबीआई शाखा ताजपिपरा में बैंक की सुरक्षा के लिए अलार्म व सीसी कैमरा लगे हैं। सुरक्षा के लिए बैंक  कार्य दिवस में थाने से दो सिपाही व बैंक  के तरफ से एक गार्ड तैनात रहते हैं। प्रबन्धक ईश्वर मौली ने बताया कि अवकाश व रात में स्थानीय पुलिस गश्त के दौरान नजर रखती है।इसी तरह बैंक आफ बड़ौदा के ने बताया कि सुरक्षा के लिए शायरन् पुलिस व सीसी कैमरा है। लेकिन रात में सुरक्षा गार्ड की व्यवस्था नहीं है।

पीपीगंज में भी बैंकों पर दिखी लापरवाही
पीपीगंज नगर पंचायत में करीब आधा दर्जन भर बैंक स्थित है,स्टेट बैंक,पीएनबी,सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया,केनरा बैंक,पूर्वाचल ग्रामीण बैंक,इलाहाबाद बैंक,यूनियन बैंक ,के अलावा देहात के दो बैंक स्टेट बैंक जंगल कौड़िया ,स्टेट बैंक जसवल बाजार में पीपीगंज थाने से होमगार्ड और सिपाही दिन में तैनात रहते हैं। रात में पुलिस पिकेट और गश्त के दौरान सुरछा ब्यवस्था देखती है सभी बैंको में सीसी टीवी कैमरा लगा है। 

गोला में बैंकों पर नहीं दिखी सुरक्षा 
गोला थाना क्षेत्र में गोला कस्बा में  भारतीय स्टेट बैंक , आई सी आई सी आई बैंक , युकों बैंक ,पूर्वांचल ग्रामीण बैंक , नेशनल पंजाब बैंक, यूनियन बैंक  6 बैंक हैं । जिसमें भारतीय  स्टेट बैंक व आई सी आई सी आई बैंक को छोड़ कर किसी में निजी गार्ड नही है । दिन में इन बैंकों पर 10 -04 पुलिस रहती है । रात में यह चारों बैंक भगवान भरोसे रहते हैं । सीसी टीवी व  सायरन की व्यवस्था सभी में है । ग्रामीण क्षेत्र नेशनल  पंजाब बैंक गोपालपुर, पूर्वांचल ग्रामीण बैंक जनीपुर व गौर खास , इलाहाबाद बैंक में सीसी टीवी कैमरा व सायरन है । निजी गार्ड की कोई व्यवस्था नही है । दिन में 10 -4 पुलिस रहती है ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Official and Guard Regardless of the security of banks