No studieds in St.Andrews college in Gorakhpur, This is the reason - सेडिका में शुक्रवार से ठप होगी पढ़ाई, ये है वजह DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेडिका में शुक्रवार से ठप होगी पढ़ाई, ये है वजह


सेडिका में शुक्रवार से ठप होगी पढ़ाई, ये है वजह

सेडिका में शिक्षकों से मारपीट करने वालों पर चौबीस घंटे बाद भी कार्रवाई नहीं होने से नाराज शिक्षकों व कर्मचारियों ने शुक्रवार से काम छोडकर आंदोलन पर जाने का निर्णय लिया है। शुक्रवार को पढ़ाई तो ठप ही जाएगी, प्रवेश आदि से संबंधित प्रशासनिक कार्य भी नहीं होंगे।

बुधवार को अभाविप कार्यकर्ताओं ने कॉलेज में प्रदर्शन के दौरान शिक्षकों से मारपीट की थी। प्राचार्य व नियंता मंडल से दुर्व्यवहार करते हुए पर्दे आदि फाड़ डाले थे। घटना के बाद ही प्राचार्य ने पुलिस को तहरीर भेज दी थी और साक्ष्य के तौर पर सीसी कैमरे की फुटेज भी सौंपी थी। पुलिस अधिकारियों से मिलकर शाम को शिक्षकों ने चौबीस घंटे का अलटीमेटम देते हुए कहा था कि चौबीस घंटे तक वह कार्रवाई का इंतजार करेंगे। इसके बाद बैठक कर आगे की रणनीति तय करेंगे।

गुरुवार को चौबीस घंटे बीतने के बाद भी जब एफआईआर तक दर्ज नहीं होने की जानकारी मिली तो शिक्षक संघ व कमचारी संघ ने अलग-अलग बैठकें की। घटना की निंदा करते हुए इसे तक मौजूदा दौर में अब तक की सबसे अराजक घटना करार दिया। तय किया कि गुरुवार से सभी लोग आंदोलन पर चले जाएंगे। इस दौरान शिक्षण कार्य नहीं होंगे। सभी प्रकार के प्रशासनिक कार्य ठप रहेंगे और कॉलेज में धरना देने के बाद सभी शिक्षक व कर्मचारी जिला प्रशासन से मिलकर अपनी भावनाएं बताएंगे। दोनों संघों ने एलान किया कि जब तक दोषियों पर कार्रवाई नहीं हो जाती, अहिंसात्मक आंदोलन जारी रहेगा। प्रति दिन सभी लोग कॉलेज पहुंचेंगे मगर कोई काम नहीं करेंगे।

बैठक में डॉ. रवीन्द्र कुमार, डॉ. सुशील राय, डॉ. सुशील तिवारी, डॉ. सीओ सैमुअल, डॉ. सीपी गुप्ता, डॉ. राहुल श्रीवास्तव, डॉ. विद्यावती गुप्ता, डॉ. सीमा शेखर, डॉ. नमिता रानी अग्रवाल के अलावा कर्मचारी संघ के सुरेन्द्र कुमार, राजू गुफरान आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

फंसेगा संयुक्त प्रवेश परीक्षा के प्रवेश

डीडीयू की वेबसाइट पर शुक्रवार को ही संयुक्त प्रवेश परीक्षा की कॉलेजवार मेरिट सूची जारी होनी है। 20 से 25 जुलाई तक प्रवेश नहीं होने पर मान लिया जाएगा कि प्रवेशार्थी अपनी इच्छा से प्रवेश नहीं ले रहा है। सेडिका में भी इस सूची पर प्रवेश होने हैं। अधिकांश विद्यार्थियों ने सेडिका को डीडीयू के बाद दूसरी च्वाइस दी है। आंदोलन के चलते ऐसे विद्यार्थी प्रवेश से वंचित हो जाएंगे। सेडिका के शिक्षकों ने योग्य विद्यार्थियों को प्रवेश से वंचित किए जाने की जिम्मेदारी पुलिस प्रशासन पर डाल दी है। कहा है कि पुलिस दोषियों पर कार्रवाई नहीं कर रही है, इसीलिए आंदोलन करना पड़ रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:No studieds in St.Andrews college in Gorakhpur, This is the reason