NER s skill will speak in Ambala - अम्बाला में सिर चढ़ कर बोलेगा एनईआर का हुनर DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अम्बाला में सिर चढ़ कर बोलेगा एनईआर का हुनर

अम्बाला में सिर चढ़ कर बोलेगा एनईआर का हुनर

अम्बाला में लगने वाले राष्ट्रीय रेल प्रदर्शनी में पूर्वोत्तर रेलवे के इंजीनियरों का हुनर सर चढ़ कर बोलेगा। 21 जुलाई को आयोजित प्रदर्शनी में एनईआर ऐसे आठ तकनीक को प्रदर्शित करेगा जिससे यहां के इंजीनियरों ने अपनी कुशलता से विकसित कर रेल संचलन को काफी सहज और सुविधाजन बनाया है।

हरियाणा के अम्बाला में पूर्वोत्तर रेलवे समेत देश भर के सभी 17 जोन और उत्पादन इकाइयां अपनी-अपनी उपलब्धियां गिनाएंगी। इस प्रदर्शनी में अकेले पूर्वोत्तर रेलवे अपने आठ नई तकनीकों से सबको रूबरू कराएगा। आठ तकनीक और सभी एक से बढ़कर एक। प्रदर्शनी में बिना इंटरनेट के टिकट बनाने वाले फैंटम से लेकर एचआईएमएस, एफएसडी, लिफ्ट विथ सीसीटीवी, रैमलॉट, रक्षक, पेट्रोलिंग एप और मेटलाइजिंग शामिल है।

गोरखपुर मुख्यालय से महाप्रबंधक समेत रवाना होगी 19 की टीम

प्रदर्शनी में शामिल होने जाने के लिए एनई रेलवे प्रबंधन ने तैयारियां तेज कर दी हैं। गोरखपुर से एनईआर महाप्रबंधक समेत अलग-अलग विभाग के 19 की टीम अम्बाला के लिए रवाना होगी।

इन तकनीकों से सहज हुआ काम

फैंटम

अगर किसी स्टेशन पर नेट कनेक्टिविटी फेल हो जाए तो फैंटम सिस्टम के जरिए दूसरे स्टेशन जहां नेट कनेक्टिविटी है वहां से सुपरइंपोज कर दूसरे स्टेशन को कनेक्ट कर देगा। इससे इंटरनेट न रहने पर भी टिकट बुकिंग में बाधा नहीं आएगी।

एफएसडी (फॉग सेफ डिवाइस)

फॉग सेफ डिवाइस इंजन में लगाया जाता है। कंप्यूटर आधारित इस डिवाइस की खासियत ये है कि सिग्नल आने के 500 मीटर पहले ही यह ट्रेन के ड्राइवर को सतर्क कर देगा कि आगे सिग्नल है। इससे दुर्घटनाएं काफी हद तक कम हो जाती हैं।

रैमलाट

जीपीएस आधारित इस रैमलॉट सिस्टम से इंजन के अंदर की हर एक गतिविधि अफसर देख सकते हैं। इसके लिए इंजन में सेंसर और कैमरे लगाए गए हैं। अगर कोई गड़बड़ी दिखती है तो अफसर इसकी सूचना तत्काल कंट्रोल को देंगे जिसके बाद चालक भी अलर्ट हो जाएगा। चालक को गड़बड़ी की सूचना मिलते ही वह ट्रेन रोक देगा और गड़बड़ी को दूर कर ट्रेन बढ़ाएगा।

रक्षक

रक्षक की-मैन और ट्रैकमैन को दिए जाने वाला ऐसा डिवाइस है जो इन्हें इस बात के लिए अलर्ट करेगा कि ट्रैक से हट जाइए ट्रेन आने वाली है। डिवाइस उस वक्त दोनों को अलर्ट करेगा जब निधार्रित लोकेशन के नजदीक स्टेशन से रवाना होगी।

एचआईएमएस

इस सिस्टम के जरिए मरीजों को ओपीडी में डाक्टर का अप्वाइंटमेंट लेने के लिए अस्पताल का चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। काउंटर पर पहुंचते ही पता चल जाएगा कि फलां डाक्टर बैठे हैं या नहीं।

कौन सा नंबर चल रहा है। यानी, सबकुछ आनलाइन। रेलवे बोर्ड के दिशा-निर्देश पर पूर्वोत्तर रेलवे के केंद्रीय और मंडल के सभी अस्पतालों में हास्पिटल इंफार्मेशन मैनेजमेंट सिस्टम (एचआइएमएस) लागू हो गया है।

लिफ्ट विथ सीसीटीवी

अब यात्री रेलवे स्टेशन पर लगी लिफ्टों में नहीं फसेंगे। यात्रियों को थोड़ी सी भी दिक्क्त हुई तो कंट्रोल रूप से तुरंत उन्हें मदद मिल जाएगी। पूर्वोत्तर रेलवे के लखनऊ मण्डल ने लखनऊ स्टेशन पर लगे लिफ्ट में सीसीटीवी कैमरे के साथ माइक्रोफोन लगाया है। यह दोनों उपकरण स्टेशन पर ही बने कंट्रोल रूम से कनेक्ट हैं। कंट्रोल रूप में बैठा स्टाफ लिफ्ट की लाइव मॉनीटरिंग करता रहेगा। अगर यात्री कहीं भी फंसा तो माइक्रोफोन के जरिए स्टाफ यात्री को गाइड करेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:NER s skill will speak in Ambala