ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश गोरखपुरनरकटियागंज की ट्रेनें अब कैंट में नहीं होंगी लेट, जानिए क्या होने जा रहा है बदलाव

नरकटियागंज की ट्रेनें अब कैंट में नहीं होंगी लेट, जानिए क्या होने जा रहा है बदलाव

गोरखपुर, वरिष्ठ संवाददाता कैंट में यात्रियों की सहूलियत के लिए बनाया गया लाइन...

नरकटियागंज की ट्रेनें अब कैंट में नहीं होंगी लेट, जानिए क्या होने जा रहा है बदलाव
हिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरWed, 06 Dec 2023 10:15 AM
ऐप पर पढ़ें

गोरखपुर, वरिष्ठ संवाददाता
कैंट में यात्रियों की सहूलियत के लिए बनाया गया लाइन नम्बर एक और दो अगले सप्ताह से संचलन के लिए खोल दिया जाएगा। इसको खोलने के लिए लगभग सभी तैयारियां पूरी हो गई हैं। अब लाइन को आपस में कनेक्ट किया जा रहा है। इसके पूरा होते ही दोनों लाइनें खोल दी जाएंगी। इन लाइनों के खुल जाने से नरकिटयागंज की तरफ जाने वाली ट्रेनें बिना किसी रुकावट के निकल जाएंगी और गोरखपुर से कैंट होते हुए देवरिया जाने वाली लाइन भी बाधित नहीं रहेगी। कैंट पर बीते सिंतबर में मेगा ब्लॉक लिया गया था जिसमें कैंट-कुसम्ही तीसरी लाइन को संचलन के लिए जोड़ दिया गया था। इसके जुड़ जाने से संचलन में कोई विशेष फायदा नहीं मिला लेकिन अब लाइन नम्बर एक और दो के जुड़ जाने से संचलन काफी सहज हो जाएगा।

लम्बे समय से चल रहे डोमिनगढ़-कुसम्ही तक तीसरी लाइन प्रोजेक्ट में कैंट से कुसम्ही 10 किमी. तीसरी रेल लाइन बनकर तैयार है। यहां प्री इंटरलॉकिंग और एनआई का काम भी पूरा हो गया। सीआरएस की हरी झंडी मिलने के बाद ट्रेनों का संचलन भी शुरू हो चुका है। वर्तमान में रेलवे बोर्ड ने तीसरी रेल लाइन का विस्तार खलीलाबाद से बैतालपुर लगभग 85 किमी कर दिया है।

इन नई कवायदों से गोरखपुर कैंट रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों की लेटलतीफी पर अंकुश लगेगा। कुसम्ही और कैंट स्टेशन पर ट्रेनें बेवजह लंबे समय तक नहीं खड़ी होंगी। संचलन तब और आसान हो जाएगा तो जब डोमिनगढ़-कुसम्ही सीधे तीसरी लाइन से कनेक्ट हो जाएगा।

गोरखपुर के रास्ते डोमिनगढ़ से कुसम्ही तक करीब 25 किमी रेल लाइन बिछाई जानी है। 75 प्रतिशत से अधिक कार्य पूरे हो गए हैं। रामगढ़ताल पर तीसरे पुल का निर्माण भी लगभग पूरा है। दिसंबर, 2024 तक कार्य पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित है। रेलवे बोर्ड ने तीसरी रेल लाइन का विस्तार खलीलाबाद से बैतालपुर लगभग 85 किमी कर दिया है। डोमिनगढ़ से खलीलाबाद तक तीसरी रेल लाइन के लिए लाइट डिटेंशन और रेजिंग सिस्टम (लिडार) सर्वे का काम पूरा हो चुका है।

गोरखपुर से कैंट थर्ड लाइन का काम तेजी से पूरा करने के निर्देश :

कैंट-कुसम्ही के बाद गोरखपुर से कैंट थर्ड लाइन का काम तेजी से किया जा रहा है। महाप्रबंधक सौम्या माथुर ने अफसरों को निर्देश दिया है कि गोरखपुर-कैंट थर्ड लाइन का काम तेजी से पूरा कराएं ताकि ट्रेनें निर्बाध रूप से दौड़ सकें।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।