DA Image
27 मार्च, 2020|2:51|IST

अगली स्टोरी

कोरोना के कारण मस्जिदों की बजाए घरों में पढ़ी जुमे की नमाज, जानें शहर का हाल

1 / 4कोरोना के चलते मस्जिदों की बजाए घरों में पढ़ी गई जुमा की नमाज

2 / 4कोरोना से बचाव के लिए बिछिया क्षेत्र में छिड़काव करता नगर निगम का कर्मचारी

3 / 4लॉकडाउन की वजह से कई दिनों से पशुओं को चारा नहीं मिल पा रहा था। शुक्रवार को पादरी बाजार क्षेत्र में भूसा बिकने लगा तो लोग जुट गए। लेकिन इस दौरान सोशल डिस्‍टेंसिंग कुछ हद तक प्रभावित होती नज़र आई

4 / 4कोरोना महामारी केे दौरान दूसरों की सेवा के लिए जुटे कर्मचारी कार्यालय मेें काम के समय ऐसे बचा रहे हैं खुद को।

PreviousNext

कोरोना से बचाव के लिए जामा मस्जिद के शाही इमाम और अन्‍य धर्मगुरुओं की अपीलों का असर नज़र आया। शुक्रवार को लोगों ने मस्जिदों की बजाए घरों पर ही नमाज पढ़ी। मस्जिदों में सिर्फ व्‍यवस्‍था से जुड़े लोगों ने वो भी सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करते हुए नमाज पढ़ी। 

कोरोना को देखते हुए पहले ही लोगों ने तय कर लिया था कि लॉकडाउन के दौरान घरों में ही नमाज पढ़ी जाएगी। इस बारे में शाही इमाम ने भी लोगों से सरकार के दिशानिर्देशों का अक्षरश: पालन करने और सोशल डिस्‍टेंसिंग अपनाने को कहा है। जुमे को इसका व्‍याप्‍क असर दिखाई पड़ा। गोरखपुर की  ज्‍यादातर मस्जिदों पर सन्‍नाटा था। घरों में नमाज पढ़ लोगों ने कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से दुनिया और देश की सुरक्षा की दुआ मांगी।

आज शहर में दिखी थोड़ी सावधानी
कोरोना वायरस को लेकर कई दिन की मशक्‍कत के बाद शुक्रवार को शहर में थोड़ी सावधानी नज़र आई। प्रशासन के आदेश से किराना और दवा की दुकानें खुली हैं। लोग यदि किन्‍हीं वजहों से निकले तो सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करते नज़र आए। गोरखपुर में लॉकडाउन के दौरान आवश्‍यक सामग्री की खरीदारी के लिए सुबह मिलने वाली छूट खत्‍म कर दी गई है। प्रशासन अब डोर टू डोर होम डिलेवरी का दावा कर रहा है लेकिन अभी यह इंतजाम पुख्‍ता तौर पर लागू नहीं हो पाया है। दुकानदार कह रहे हैं कि उनके पास पर्याप्‍त संख्‍या में स्‍टॉफ नहीं है जिससे वे होम डिलेवरी करा पाएं। इस बीच शुक्रवार सुबह नवीन मंडी में ठेला लगाने वालों के लिए पर्ची बनती नजर आई।महेवा मंडी में सब्जी की दुकानें लगी थीं जहां खरीदारी के लिए अच्‍छी-खासी संख्‍या में लोग जुटे। इस बीच एसपी सिटी डा.कौस्‍तुभ,सिटी मजिस्ट्रेट सहित अन्‍य कई अधिकारी गश्‍त कर लॉकडाउन का जायजा लेते रहे। 

कलेक्‍ट्रेट में पास बनवाने के लिए उमड़ी भीड़ 
कोरोना वायरस की वजह से लगे लॉकडाउन में आवश्‍यक सेवायें देने वाले शुक्रवार को कलेक्‍ट्रेट में पास बनवाने के लिए कतारों में सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करते नज़र आए। रसोई गैस, सब्‍जी, राशन, डिलीवरी वाहन, डिलीवरी मैन, दूध, मेडिकल स्‍टोर सहित कई आवश्‍यक सेवाओं के लिए लोगों के परिचय पत्र बनाए गए। लॉकडाउन के दौरान लोगों को आवश्‍यक सुविधाएं मिलने में आ रही दिक्‍कतों की सुनवाई के लिए ई-डिस्ट्रिक्‍ट केंद्र में बना कंट्रोल रूम भी सोमवार को सक्रिय नज़र आया। यहां आज पांच हेल्‍पलाइन नंबर बढ़ा दिए गए हैं। गुरुवार को दिन भर हेल्‍पलाइन नंबरों के बिजी रहने की शिकायतों के कारण यह बढ़ोत्तरी की गई। उधर, तारामंडल रोड के पास कुछ पूर्व सैनिकों ने दिन-रात ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को सम्‍मानित भी किया। 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:namaz at home not in mosques due to corona covid-19 in gorakhpur