Mushayara in St.Andrews college of Gorakhpur - बंजर कभी होने नहीं देंगे चमन अपना, इस मिट्टी से जो खून का रिश्ता है हमारा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बंजर कभी होने नहीं देंगे चमन अपना, इस मिट्टी से जो खून का रिश्ता है हमारा

बंजर कभी होने नहीं देंगे चमन अपना, इस मिट्टी से जो खून का रिश्ता है हमारा

‘बंजर कभी होने नहीं देंगे चमन अपना, इस मिट्टी से जो खून का रिश्ता है हमारा गाकर वसीम अजहर ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर हर भारतीय की भावना का उद्गार किया। आयोजन के जरिए प्रख्यात शायर जफर गोरखपुरी को याद किया गया।

सेण्ट ऐण्ड्रयूज़ महाविद्यालय के उर्दू विभाग द्वारा कालेज असेम्बली हॉल में गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित मुशायरे में डॉ. साजिद हुसैन का कलाम मैं चाहता हूं जिसे टूटकर, नहीं आता, के रोज वादा करता है मगर नहीं आता भी खूब पसंद किया गया। अनवर ज़िया, नसीम सलेमपुरी, सलाम फैजी, कमालुद्दीन कमाल, शाकिर अली शाकिर, वसीम अजहर, सलीम अजहर, मोहम्मद अनस, अफरोज आलम आदि के के शेर व कलाम भी सराहे गए। मुशायरे का संचालन हाफिज नसरूद्दीन ने किया।

मुख्य अतिथि के रूप में डॉ. विजाहत करीम तथा विशिष्ट के रूप में डॉ. सुरहीता करीम उपस्थित थीं। अध्यक्षता कालेज के प्राचार्य प्रो. जेके लाल ने की। इस अवसर पर कालेज के शिक्षकगण डॉ. पी अब्बासी, डॉ. शेखर वर्मा, डॉ. सीमा शेखर, डॉ. सुषमा जॉन, डॉ. शमशाद अहमद खान, डॉ. हरिओम गुप्ता, डॉ. अनुग्रह तिवारी, डॉ. राहुल श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन उर्दू विभाग के प्रवक्ता डॉ. साजिद हुसैन अंसारी ने किया। राष्ट्रगान के बाद कालेज के प्राचार्य प्रो. जेके लाल ने मुशायरे के समाप्ति की घोषणा की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mushayara in St.Andrews college of Gorakhpur