DA Image
19 जनवरी, 2020|6:44|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पैमाइश, आय, जाति, निवास, वरासत सब ठप, ये हैै वजह

लेखपालों के अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार का सीधा असर आम जन पर पड़ेगा। उनके कार्य बहिष्कार से अब न तो पैमाइश हो पाएगी और न ही आय, जाति, निवास और वरासत प्रमाण पत्र के लिए रिपोर्ट लग सकेगी। एक साथ ही सारी सेवाएं ठप हो गई है। स्थिति और खराब इसलिए होगी क्योंकि 250 अतिरिक्त हल्कों को चार्ज छोड़ देने से काफी पहले से 6000 से अधिक आनलाइन आवेदन लम्बित पड़े हैं। ऐसे में पूरी तरह से कार्य बहिष्कार हो जाने से लम्बित आवेदनों की संख्या और बढ़ जाएगी। 

जिले में इन दिनों रोजाना आय, जाति, निवास, वरासत के औसतन 150 से 200 आवेदन आते हैं। ऐसे में अगर लेखपालों ने अपना कार्य बहिष्कार समाप्त नहीं किया तो लम्बित आवेदनों की संख्या बढ़ने के साथ ही आम जनों की समस्या बढ़ती जाएगी। 

लेखपालों की स्थिति 
जिले में लेखपालों की अनुमन्य संख्या-879
कार्यरत लेखपालों की संख्या-------645
रिक्त 234 लेखपाल क्षेत्र में कुल राजस्व ग्राम 702
हम शांतिपूर्वक आंदोलन में भरोसा करते हैं। यही वजह रही कि बीते नवम्बर से हमारा संगठन काम करते हुए विरोध करता रहा लेकिन अब इससे काम नहीं चलेगा। मांगे मनवाने के लिए कड़े रुख अख्तियार करने ही पड़ते हैं। 
हरि प्रकाश श्रीवास्तव, कोषाध्यक्ष जिला लेखपाल संघ 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:measurement income certificate address certificate and many works stopped due to Lekhpals strike in Gorakhpur