DA Image
18 अप्रैल, 2021|10:40|IST

अगली स्टोरी

कस्टम अधिकारी बन कर स्वर्ण व्यापारी से दस लाख के गहने की लूट

loot

शाहपुर क्षेत्र के खजांची चौक के पास मंगलवार की रात महराजगंज से वसूली कर लौट रहे स्वर्ण व्यापारी से दस लाख के गहने की लूट की घटना प्रकाश में आई है। स्कार्पियों सवार वर्दीधारी चार बदमाशों ने वारदात को अंजाम दिया। बुधवार को व्यापारी कस्टम ऑफिस पहुंचे तो उनको जालसाजी की जानकारी हुई। हालांकि पुलिस को घटना की तहरीर नहीं मिली है। सीओ गोरखनाथ ने बताया कि मौखिक सूचना पर पुलिस मामले की जांच कर रही है। 
वारदात
-शाहपुर क्षेत्र के खजांची चौराहे पर स्कार्पियों सवार बदमाशों ने वारदात को दिया अंजाम
-कस्टम ऑफिस पहुंचने पर बुधवार को स्वर्ण व्यापारी को हुई जालसाजी की जानकारी
-घटना की मौखिक सूचना पर जांच में जुटी है पुलिस, घटना की नहीं मिली है कोई तहरीर

मिली जानकारी के अनुसार घंटाघर के व्यापारी विनोद मंगलवार को साप्ताहिक बंदी के दिए तगादा करने के लिए महराजगंज गए थे। वहां से लौटने के दौरान उनके पास करीब ढाई लाख रुपये नकद और आठ लाख कीमत के सोने चांदी के जेवरात थे। अभी वह खजांची चौराहे के पास पहुंचे थे चार युवकों ने उन्हें रोका और खुद को कस्टम अधिकारी बताते हुए गाड़ी में सवार हो गए। एक बदमाश ने अपने को नौतनवां का कस्टम अधिकारी अनिल अपने को बताते हुए चेकिंग के नाम पर गहनों को ले लिया और नकदी से कस्टम का वास्ता ना होने की बात कहते हुए छोड़ दिया। फिर गाड़ी में बैठकर पादरी बाजार की ओर भी ले गए। व्यापारी ने घुमाने से मना करते हुए कार्रवाई की बात कही तो गाली देते हुए छोड़े और बोले कि कल यानी बुधवार को नौतनवां दफ्तर पर आना है। व्यापारी वहां पर गए तो पता चला कि ना तो अनिल नाम का कोई अफसर है और ना ही टीम कहीं गई थी। इसके बाद व्यापारी ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने अपने स्तर से जांच पड़ताल की है मगर कहीं कुछ नहीं मिला है।
‘‘शाहपुर क्षेत्र के खजांची चौक पर कस्टम अधिकारी बनकर जालसाजी की घटना की मौखिक सूचना मिली है। पुलिस ने घटनास्थल के आसपास के सीसी टीवी कैमरों को खंगाला है मगर कहीं पर भी कोई ऐसी घटना नहीं मिली है। तहरीर देने के लिए कहा गया था लेकिन नहीं दी गई। तहरीर मिली तो उस हिसाब से आगे की कार्रवाई की जाएगी।’’
रत्नेश सिंह, सीओ गोरखनाथ

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Looting one million jewels from gold merchant by becoming a custom officer