DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक घंटे में मंजूर होने लगे एक करोड़ तक के तक के लोन


एक घंटे में मंजूर होने लगे एक करोड़ तक के तक के लोन

जिस लोन के उद्यमियों को महीनों बैंक के चक्कर लगाने पड़ते थे, वह अब बेहद आसान हो गए हैं। केन्द्र सरकार की योजना लागू होने के बाद वाकई 59 मिनट में लोन की मंजूरी मिलने लगी है। योजना लागू होने के बाद महज चार दिन में राष्ट्रीयकृत बैंकों ने दस उद्यमियों को न केवल लोन मंजूर कर लिया है, बल्कि उनके खातों में रकम ट्रांसफर भी कर दी गई है।

सूक्ष्म व लघु उद्योगों (एमएसएमई) के लिए 59 मिनट में एक करोड़ तक का लोन देने की योजना के संबंध में पीएमओ के निर्देश पर सभी बैंकों ने 20 दिन पहले से ट्रायल शुरू कर दिया था। प्रधानमंत्री ने पांच दिन पहले www.psbloansin59minutes.com नामक पोर्टल लांच किया था। इस पोर्टल के माध्यम के लोन का आवेदन करने वालों को 59 मिनट में लोन देने की व्यवस्था की गई है। यह सुविधा सूक्ष्म व लघु उद्योगों के लिए दी गई है कि वह इस माध्यम से आवेदन कर मात्र 59 मिनट में एक करोड़ के लोन मंजूर करा सकते हैं। सीधे बैंक का राष्ट्रीय मुख्यालय इसकी ऑनलाइन मंजूरी दे रहा है। लोन के लिए आवेदन करने वालों के लिए जरूरी यह है कि वह आवेदन के वक्त अपनी सभी पत्रावलियां साथ रखे और जैसे ही जो भी डिटेल मांगी जाए, उसे पोर्टल पर उपलब्ध करा दे।

सेंट्रल बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक आलोक श्रीवास्तव ने बताया कि पीएम की इस योजना से गोरखपुर क्षेत्र में दो लोगों को लोन दिया गया है। संबंधित ब्रांच को लोन की रकम ट्रांसफर करने के निर्देश दिए गए है। उन्होंने बताया कि एक लोन ट्रायल के दौरान ही मंजूर हो गया था। दूसरा योजना लांच होने के बाद मंजूर हुआ है।

स्टेट बैंक डीजीएम पीसी बरोड ने बताया कि गोरखपुर परिक्षेत्र में इस योजना से तीन लोन मंजूर हुए हैं। इसमें एक लोन मेन ब्रांच ने 70 लाख का मंजूर किया है। इस स्कीम का फायदा लघु उद्योगों को खूब मिलेगा। यदि उनकी सूचनाएं व पत्रावलियां सही होंगी तो 59 मिनट में लोन स्वीकृत हो जा रहा है। पीएनबी के डीजीएम राकेश अग्रवाल ने बताया कि पीएनबी ने गोरखपुर परिक्षेत्र के में इस योजना से 4 लोन मंजूर किए हैं। सभी लोन महज 59 मिनट में मंजूर हो गए। बैंक मुख्यालय से मंजूरी मिलने के बाद संबंधित ब्रांच को निर्देश देकर उद्यमी के खाते में रकम ट्रांसफर करा दी गई।

जिस ब्रांच से चाहा, वहीं से मिला लोन

बैंक अधिकारियों ने बताया कि उद्यमी ने अपने आवेदन में लोन के लिए जिस ब्रांच से इच्छा जाहिर की थी, उसी ब्रांच से लोन दिया गया। इस पोर्टल की मानीटरिंग बैंक का हेड ऑफिस करता है। 59 मिनट में लोन मंजूर होने की जानकारी मिनटों में ऑनलाइन राज्य, जोन, क्षेत्रीय मुख्यालय लेकर ब्रांच तक पहुंच जाती है। बैंक अफसर ऑनलाइन लोन की मंजूरी के बाद अनदेखा नहीं कर सकते। अधिकारियों ने लघु उद्यमियों से अपील की है कि इस पोर्टल का लाभ उठाएं।

सीजीटी एमएसई की गारंटी पर मिल रहा लोन

एमएसएमई लोन, सीजीटी एमएसई की गारंटी पर दिया जा रहा है। उसी तरह से जिस तरह से मुद्रा लोन को सरकार की गारंटी मिलती है। स्टार्ट अप योजना को सिडबी और नाबार्ड की गारंटी मिलती है। बैंक को यह गारंटी चाहिए होती है कि यदि लोन लेने वाला डिफाल्टर हो गया तो उसकी भरपाई कहां से होगी। योजना में गारंटी मिल जा रही है, इसलिए बैंकों को लोन देने में कोई हर्ज नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Loans are given in one hour from banks in Gorakhpur